जानिए क्यों महाभरत के शकुनि को कहा जाता है एक कुशल योद्धा

shakuni mahabharat

शकुनि कोई कमजोर या कायर योद्धा नहीं था। जैसा कि आजकल हम सभी को टीवी धारावाहिकों में दिखाया जाता है। वो एक बहुत अच्छा योद्धा था और साथ ही साथ वो माया करना भी जनता था। उसने महाभारत के पहले दिन पांडव पुत्र युधिष्ठिर के भी पुत्र के साथ युद्ध किया और उसके खिलाफ गतिरोध उत्पन्न कर दिया।

शकुनि, बहुत पराक्रम के साथ, विपक्ष के महान पराक्रम के प्रतिद्वंदी के खिलाफ, एक शेर की भांति छलांग लगाकर उसपर चढ़ जाता था और युद्ध करता था। युधिष्ठिर के पराक्रमी पुत्र ने भी अत्यधिक क्रोध में, उस युद्ध में सुवल के पुत्र को राक्षस की भांति अपने तीखे बाणों से मार डाला और शकुनि ने भी उस भयंकर युद्ध में बदले में प्अपने प्रतिद्वंदी को छेद दिया और उस महान बुद्धि के योद्धा को सीधे बाणों से कुचल दिया।

शकुनी ने सहदेव का रोका था रास्ता

Shakuni

महाभारत के ग्यारहवें दिन; शकुनि, सौ प्रकार के छल करना जानता था। वो सहदेव की ओर दौड़ा और उसने सहदेव के सारथी और उनके रथ को बाणों से छेद डाला । हालांकि, सहदेव ने अधिक उत्साहित हुए बिना उसपर धैर्यता से पलटवार किया। उन दोनों के मध्य भयानक युद्ध हुआ।

शकुनि भी भ्रम पैदा करना जानता है। वो जानता था की किस समय कौन सी माया करनी है। उसने अपने हथियारों से अर्जुन से लड़ने के लिए भ्रम पैदा किया। हालांकि अर्जुन ने अपने दिव्य अस्त्रों का प्रयोग करके शकुनि की उन सभी माताओं का दृढ़ता से मुकाबला किया और आखिर में शकुनि को परास्त किया।

शकुनि, सौ विभिन्न प्रकार के भ्रमों का जानकर होने के कारण अपने भाइयों को मारे गए देखकर, अर्जुन और श्री कृष्ण को भ्रमित करने के लिए माया रचनी शुरू की। शकुनी ने अर्जुन के चारों ओर से नाना प्रकार के हथियाराें और अन्य भिन्न भिन्न प्रकार के अस्त्र शस्त्रों की अर्जुन पर चारों ओर से बौछार की।

उसने अपनी माया से अर्जुन को ऐसा प्रतीत कराया जाए की विविध प्रकार के जानवर, नरभक्षी, और कौवों के झुंड, सभी भूखे और क्रोधित होकर अर्जुन की ओर दौड़ रहे हैं। तब कुंती के पुत्र अर्जुन ने, आकाशीय हथियारों से परिचित, बाणों की बादलों से वर्षा करते हुए, उन सभी पर हमला किया और उस अर्जुन एक एक करके उस पूरी माया को ध्वस्त कर दिया।

उसके पश्चात शकुनी ने माया से अर्जुन के समक्ष घना अँधेरा प्रकट कियाऔर अर्जुन के रथ को ढँक दिया, और उस अंधेरे में भीतर से किसी ने  कठोर स्वरों ने अर्जुन को डाँटा। हालांकि, बाद में, ज्योतिष नामक हथियारों के माध्यम से, उस घने और भयानक अंधेरे को पार्थ ने दूर कर दिया। जब वो अंधेरा दूर हुआ तो पानी की भयानक लहरें दिखाई देने लगीं।

उस जल को सुखाने के लिए अर्जुन ने आदित्य नामक अस्त्र का प्रयोग किया और उस हथियार के परिणामस्वरूप, पानी लगभग सूख गया था। शकुनी के द्वारा बार-बार बनाए गए इन विविध प्रकार की माया को अर्जुन ने अपने हथियारों के बल से थोड़ी ही देर में हंसते हुए तेजी से नष्ट कर दिया। अर्जुन के बाणों से पीड़ित और भय से रहित, उसकी पूरी माया के नष्ट होने पर, शकुनि अपने घोड़ों की सहायता से, एक दुष्ट की तरह भाग गया।

शकुनि ने की कर्ण की भीम से रक्षा

महाभारत के चौदहवें दिन, कर्ण ने पांडु पुत्रों के सोने से सजे एक रथ पर शस्त्र से प्रहार किया। हालाँकि, पांडव ने थोड़ी देर मुस्कुराते हुए उस शस्त्र को अपने हाथ से पकड़ लिया और उस युद्ध में कभी न हारने वाले भीमसेन ने उसी शस्त्र को वापस कर्ण पर फेंक दिया। तब शकुनि ने कर्ण की ओर बढ़ते हुए उस उस बाण को काट दिया और इस प्रकार कर्ण की रक्षा की।

शकुनि ने सुतसोम (भीम के पुत्र) को हराया

महाभारत के सोलहवें दिन, शतरंज के महान खिलाड़ी ने तब अपने तेज दिमाग को चलाते हुए चालाकी से शत्रु पर कई बाण चलाए, लेकिन बाद वाले ने अपने उत्कृष्ट हथियार से उन्हें तुरंत काट दिया, जब वे उसकी ओर बढ़ रहे थे। इस पर क्रोध से भरकर, शकुनि एक बार फिर सुतसोम पे कई बाण चलाए जो जहरीले जहर के सांपों के समान थे।

अपने कौशल और पराक्रम की सहायता से, सुतसोम ने अपनी महान प्रतिभा का प्रदर्शन करते हुए, अपने विशेष हथियार से इन्हें भी काट गिराया, जो शस्त्र गरुड़ के समान कौशल के रूप में उनके निकट ही था। महान तीक्ष्णता के उस्तरा वाले तीर से  शकुनि ने अपने विरोधी के उस विशेष हथियार को काट दिया।

शकुनि ने उस हथियार को इस प्रकार काटा कि उसका आधा भाग अचानक पृथ्वी पर गिर गया, और  इसका आधा, सुतसोम की मुट्ठी में ही रह गया। अपनी तलवार को कटा हुआ देखकर, शक्तिशाली योद्धा सुतसोमा छह कदम पीछे हट गया।

बड़ी संख्या में पांडव सेना के योद्धाओं का वध किया

शकुनि एक और दुर्जेय और अजेय धनुष लेकर, बड़ी संख्या में दुश्मनों को मारता हुआ पांडव सेना की ओर बढ़ने लगा। शकुनि को युद्ध में निर्भय देख कर सेना के उस हिस्से में पांडवों के बीच एक जोरदार कोलाहल हुआ।

लोगों ने उस बड़े और गौरवपूर्ण विभाजनों को देखा, जो शकुनि के द्वारा संचालित हथियारों से भरा था। जिस प्रकार राक्षसों के सरदार ने राक्षस सेना को कुचल दिया, उसी प्रकार उसने पांडवों की उस सेना को नष्ट कर दिया।

शकुनि ने कुलिंद साम्राज्य के राजकुमार को मारा

महाभारत के सत्रहवें दिन; कुलिंदों का राजकुमार, अपने उस हाथी के साथ, जोकि अपने दाँत और शरीर के साथ सबसे बड़े योद्धाओं को मारने में सक्षम था, उसे मारने के लिए शकुनि की ओर तेजी से दौड़ा। पर्वतारोही शकुनि को अत्यधिक कष्ट देने में सफल रहा। हालांकि, जल्द ही, गांधार के प्रमुख ने उसका सिर काट दिया। जिससे वो महान योद्धा वीरगति को प्राप्त हुआ।

शकुनि ने युधिष्ठिर को दी मात

शकुनि की सबसे बड़ी उपलब्धि महाभारत के 18वें दिन युधिष्ठिर को हराना था। लेकिन बाद में युधिष्ठिर ने शकुनि को घायल कर दिया था। महाभारत के उस युद्ध में वीर शकुनि ने युधिष्ठिर को परास्त किया था। गांधार का पराक्रमी राजा शकुनि ने युधिष्ठिर के चारों घोड़ों का वध करके बड़ी भारी गर्जना की, जिससे संपूर्ण सेना डर ​​से कांप उठी।

इस बीच, वीर सहदेव ने युधिष्ठिर को अपने रथ में बिठा लिया। तब राजा युधिष्ठिर दूसरे रथ पर सवार होकर युद्ध में वापस आ गए और शकुनि को पहले नौ बाणों से छेद दिया। एक बार फिर से उसे पाँच बाणों से छेद दिया। सभी धनुर्धारियों में सबसे आगे ने जोर से दहाड़ लगाई।

वो लड़ाई, जो अभी तक भयानक थी, अब देखने में अद्भुत हो गई थी। इस घटना ने योद्धाओं को आनंद से भर दिया और सिद्धों द्वारा इसकी सराहना की गई।इसलिए शकुनि कोई कायर योद्धा नहीं था। जैसा कि हम सभी को टीवी धारावाहिकों में दिखाया जाता है।

वो एक महान योद्धा था। वो शस्त्र चलाने में कुशल के साथ साथ युद्ध कौशल में भी निपुण था। शकुनि चौसर का एक महान खिलाड़ी था। खेल के साथ साथ उसे असल जिंदगी में भी दांव पेंच खेलना बखूबी आता था।

Mahabharat Quotes in Hindi – महाभारत के अनमोल विचार

Featured image: Newsflashtimes

Leave a New Comment

Related

Trending