Pradeep Mehra | वायरल बॉय प्रदीप मेहरा के बारे में जानिए, जो बन गए हैं आज युवाओं की प्रेरणा

pradeep mehra

पंखों से कुछ नहीं होता,

हौसलों से उड़ान होती है,

मंजिल उन्हें ही मिलती है,

जिनके सपनों में जान होती हैं!

उपरोक्त पंक्तियां आज उत्तराखंड के प्रदीप मेहरा (Pradeep Mehra) ने सच साबित कर दिखाई हैं। प्रदीप मेहरा का नाम आज किसी परिचय का मोहताज नहीं है, बल्कि हर किसी व्यक्ति की जुबां पर उसका नाम चढ़ चुका है, लेकिन अगर आप अभी तक इस नाम से अनभिज्ञ है।

तो हमारे आज के इस लेख के माध्यम से हम आपको उत्तराखंड के वायरल बॉय (viral Boy) प्रदीप मेहरा के बारे में विस्तार से जानकारी देने वाले हैं। जिसके बारे में जानकर आप भी इस 19 वर्षीय लड़के पर गर्व करने से चूकेंगे नहीं।

सबसे पहले जान लेते हैं…

कौन है प्रदीप मेहरा (who is Pradeep Mehra)

Pradeep Mehra

प्रदीप मेहरा एक 19 वर्ष का लड़का है, जोकि उत्तराखंड राज्य के अल्मोड़ा जिले में रहता है। वह एक अत्यंत गरीब परिवार में जन्मा है। जिसके घर की आर्थिक स्थिति काफी शोचनीय है। यही कारण है कि प्रदीप अपने परिवार समेत अपने पैतृक गांव (चौखुटिया में धनाड़ नामक गांव) को छोड़कर नोएडा चला आया है।

जिसका एक बड़ा भाई पंकज भी है। जबकि प्रदीप के पिताजी का नाम त्रिलोक सिंह है, जोकि अपनी रोजी रोटी चलाने के लिए नदी किनारे पड़े कंकड़ों को तोड़ते हैं।

साथ ही अब वह आजीविका के चलते अपने बच्चों और पत्नी से दूर…इंदिरा आवास में बने एक छोटे से कमरे के मकान में जीवन बसर कर रहे हैं। उधर, प्रदीप की माताजी का स्वास्थ्य काफी खराब है, उन्हें टीबी की बीमारी है।

जिनका दिल्ली स्थित एक अस्पताल में पिछले दो सालों से इलाज चल रहा है। माताजी की गंभीर हालत के चलते प्रदीप के पिताजी की पैतृक जमीन तक बिक गई। ऐसे में प्रदीप अपने घर वालों को आर्थिक मदद देने के लिए काफी छोटी उम्र से ही काम करने लगा है।

जिसके चलते वह और उनका भाई दोनों ही नोएडा स्थित एक फैक्ट्री में सुबह से शाम तक काम करते हैं। और दोनों भाई देर रात तक अपनी शिफ्ट खत्म करके वापिस लौटते है और मिलकर खाना बनाना इत्यादि की तैयारी करते हैं।

बात करें, प्रदीप की शिक्षा की तो प्रदीप ने तड़ागताल के एक इंटर कॉलेज से 12वीं उत्तीर्ण किया है, अभी स्नातक के लिए किसी कॉलेज में दाखिला नहीं लिया है, जिसके पीछे काफी हद तक उसकी कमजोर आर्थिक स्थिति जिम्मेदार है। इस तरह से प्रदीप काफी छोटी उम्र से ही घर की जिम्मेदारी को उठाए अपने गांव से नोएडा आकर करीब 7-8 महीने से रह रहे हैं।

काफी छोटी उम्र में ही देख लिया फौजी बनने का सपना..

प्रदीप मेहरा जब केवल 14 वर्ष के थे तभी से उन्हें भारतीय सेना में जाना था। जिसके लिए वह तब से प्रयासरत है, उसको देश के बॉर्डर पर जाकर देश की रक्षा करनी है।

ऐसे में जब प्रदीप केवल 17 साल का था, तब उसने सेना भर्ती की परीक्षा दी थी, लेकिन वह दौड़ निकाल पाने में असफल रहा था, जिसके कारण ही उसने ठान लिया था कि चाहे कुछ हो जाए वह भारतीय सेना में जाकर ही रहेगा।

तभी से प्रदीप नौकरी से लौटते हुए दौड़ का अभ्यास करता हुआ घर वापिस आता है। प्रदीप को भारतीय सेना में जाने की प्रेरणा अपने गांव के सैनिक भाइयों को देखकर ही मिली है, वह उनकी तरह से अपने देश की सेवा करना चाहते हैं।

कैसे वायरल हुआ प्रदीप मेहरा का वीडियो (Viral Video of Pradeep Mehra)

Pradeep Mehra First Viral Video On NDTV News Channel

फिल्म जगत के जाने माने निर्माता और पूर्व पत्रकार विनोद कापड़ी (Vinod kapri) की नजर जब सड़क पर दौड़ते एक लड़के पर पड़ी, तो उन्होंने उसकी वीडियो बना ली। इस दौरान उन्होंने उस बच्चे से उसके बारे में पूछा। जिसने अपना नाम प्रदीप मेहरा बताया।

साथ ही उसने बताया कि वह अल्मोड़ा का रहने वाला है और नोएडा सेक्टर-16 में एक फैक्ट्री (मैकडोनाल्ड) में नौकरी करता है। ऐसे में जब विनोद कापड़ी ने उस लड़के से उसके दौड़ने का कारण पूछा।

तो उसने बताया कि वह रोजाना नोएडा से बरौली तक करीब 10 किमी तक दौड़कर जाता है। क्योंकि उसे भारतीय सेना का हिस्सा बनना है, यानि वह भारतीय फौज में जाकर देश की सेवा का स्वप्न आंखों में संजोया हुआ है।

लेकिन नौकरी की वजह से उसे तैयारी का समय नहीं मिल पाता है, इसलिए वह रोजाना शाम को नौकरी से लौटते वक्त दौड़ लगाता है। प्रदीप के मुताबिक, उसकी नौकरी दोपहर 1 बजे से शुरू होकर रात 9:30 तक चलती है।

ऐसे में वह रोजाना फैक्ट्री से लेकर घर तक का सफर दौड़कर ही करीब 30 मिनट में पूरा करता है, इससे उसकी दौड़ का भी अभ्यास हो जाता है। हालांकि प्रदीप को दौड़ता देख विनोद कापड़ी ने उसे लिफ्ट भी दी थी, लेकिन उस 19 वर्षीय बालक ने कहा कि वह अपना रूटीन बिगड़ना नहीं चाहता है।

ऐसे में विनोद कापड़ी ने जब प्रदीप मेहरा का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल किया, तब लोगों ने उस लड़के की हिम्मत को काफी सराहा। साथ ही प्रदीप मेहरा के वीडियो को अबतक काफी ज्यादा लाइक्स और शेयर मिल चुके हैं।

कई बड़े बड़े लोग उसकी वीडियो को लाइक और उसपर कॉमेंट कर रहे हैं। ऐसे में जब कई लोगों ने प्रदीप मेहरा की मदद को आगे कदम बढ़ाया, तब भी प्रदीप ने यही कहा कि वह मेहनत के दम पर ही मुकाम हासिल करना चाहता है। साथ ही उन्हें अपने उद्देश्य पर अभी पूर्णतया ध्यान केंद्रित करना है।

साथ ही मां का इलाज कराकर कर्जा निपटाना है। इसके अलावा, प्रदीप मेहरा का कहना है कि वह पिछले दो सालों से देवभूमि में आर्मी भर्ती का इंतजार कर रहे हैं। 


प्रदीप मेहरा की मदद के लिए आगे आए जिम्मेदार

प्रदीप मेहरा की वीडियो के वायरल होते ही लोगों ने उसे काफी पसंद किया और उसे आगामी भविष्य के लिए उत्साहित किया। ऐसे में अब जब प्रदीप मेहरा को मीडिया की मदद से लोग जानने लगे हैं, तो समाज के जिम्मेदार लोग उसकी मदद के लिए आगे आ रहे हैं।

जिसमें गौतम बुद्धनगर के डीएम सुहास एलवाई ने प्रदीप मेहरा की मदद के लिए हाथ आगे बढ़ाया है। उन्होंने प्रदीप और उसके भाई से मुलाकात करके उन्हें हर तरह की मदद करने का आश्वासन दिया है। साथ ही उन्होंने प्रदीप की करियर काउंसलिंग करने की बात कही है। खुद ओलंपिक पदक विजेता डीएम सुहास एलवाई ने प्रदीप मेहरा की दौड़ की तारीफ की है। 

इसके अलावा, भारतीय क्रिकेटर हरभजन सिंह और इंग्लैंड के पूर्व क्रिकेटर केविन पीटरसन समेत मुंबई इंडियंस की टीम ने भी प्रदीप मेहरा की तारीफ में ट्वीट किया है।

इसके साथ ही केजरीवाल सरकार ने भी प्रदीप की मां के इलाज के लिए हर संभव मदद देने की बात कही है। वहीं उत्तराखंड के नवनिर्वाचित मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने भी प्रदीप की मां को बेहतर से बेहतर

इलाज मुहैया कराने की बात कही है। इतना ही नहीं, प्रदीप के असीम उत्साह और आत्मविश्वास को देखते हुए भारतीय सेना के सेवानिवृत अधिकारी लेफ्टिनेंट जनरल सतीश दुआ ने भी उसे भारतीय फौज में जाने के लिए मदद करने का भरोसा दिलाया है।

ऐसे में विनोद कापड़ी जिन्होंने इस बच्चे की वीडियो को वायरल कर दुनिया के सामने लाकर रखा। उनका और हम सबका यही उद्देश्य होना चाहिए कि पहाड़ों से प्रतिभा का पलायन रुकना चाहिए। जो व्यक्ति जहां है उसे वहीं काम मिलना चाहिए।

साथ ही प्रदीप जैसे लोग जो हर परिस्थिति में अपने सपने को हकीकत करने में लगे हुए हैं। इनके उज्ज्वल भविष्य के लिए सरकार समेत जिम्मेदार लोगों को अवश्य ही आगे आना चाहिए।

ऐसा बिल्कुल नहीं होना चाहिए कि प्रदीप की वीडियो वायरल होने के बाद उसकी जिंदगी केवल चार दिन की चांदनी और फिर अंधेरी रात ना बन जाए, इसके लिए प्रदीप समेत समस्त जागरूक लोगों को प्रतिभाओं के हित में अनेकों कार्य करने की आवश्यकता है, तभी हमारा समाज और उसके सभ्य नागरिक उन्नति कर पाएंगे।

इस प्रकार, प्रदीप मेहरा जोकि लाखों करोड़ों युवाओं की प्रेरणा बन चुका है, लेकिन पहाड़ों से युवाओं के पलायन का दर्द भी उसके जीवन चरित्र से झलकता है।

प्रदीप मेहरा जैसे ना जाने कितने ही पहाड़ी युवा रोजगार की तलाश में पहाड़ों से पलायन करने को मजबूर है, जिसके बाद अब इस दिशा में समाज के जिम्मेदार लोगों को आवश्यक कदम उठाने की आवश्यकता है। ताकि प्रदीप जैसे लाखों पहाड़ी युवाओं को जीवन की इस दोहरी मार का सामना ना करना पड़े।

Featured image: tamil.behindwood


अंशिका जौहरी

मेरा नाम अंशिका जौहरी है और मैंने पत्रकारिता में स्नातकोत्तर किया है। मुझे सामाजिक चेतना से जुड़े मुद्दों पर बेबाकी से लिखना और बोलना पसंद है।

Leave a New Comment

Related

Trending