मंगलवार को क्यों कहा जाता है हनुमान जी का विशेष दिन? जानिए पूजन विधि जिससे आपकी मनोकामना हो पूरी

hanuman ji

हिंदू धर्म की मान्यताओं के अनुसार मंगलवार का दिन हनुमान जी का विशेष दिन होता है। जो भी लोग हनुमान जी के उपासक हैं या जो मंगलवार का व्रत रखते हैं उन्हें हनुमान जी की पूजा जरूर करनी चाहिए। हनुमान जी की पूजा करते वक्त पवित्रता का ध्यान देना रखना बहुत ही आवश्यक है।

जब भी आप पूजा करने जाएं तब तन और मन में पवित्रता अवश्य होनी चाहिए। पूजा के दौरान मन को किसी भी प्रकार के गलत विचारों की ओर न भटकने दें। 

इस दिन बजरंगबली की पूजा करने से मनोवांछित और उत्तम फल प्राप्त होता है, लेकिन ये बात गोर करने वाली है कि आखिरकार मंगलवार के दिन ही हनुमान जी की पूजा करने के पीछे क्या कारण है?

आपके मन में कभी न कभी तो ये सवाल आया ही होगा, तो आपको यहां जानिए इसका जवाब और हनुमान जी की पूजा करते समय किन किन नियमों का दृढ़ता से पालन करना चाहिए। इसके साथ ही जानिए मंगलवार के दिन हनुमान जी की पूजा करने की सही विधि। 

मंगलवार को ही ख़ासकर क्यूँ की जाती है हनुमान जी की सेवा

मंगलवार के दिन बाल ब्रह्मचारी हनुमान जी की पूजा की जाती है। पौराणिक मान्यताओं और विशेष रूप से स्कंद पुराण के अनुसार मंगलवार के दिन ही हनुमान जी का जन्म हुआ था, जिसके कारण ये दिन बजरंगबली की पूजा को समर्पित है।

इस दिन विधि विधान से हनुमान जी की पूजा करना विशेष फलदायी माना जाता है। कहा जाता है कि इससे हनुमान जी प्रसन्न होते हैं और भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूर्ण करते हैं, क्षण भर में उनके सभी कष्ट दूर कर देते हैं।

हनुमान चालीसा अर्थ सहित

इसी वजह से ही हनुमान जी को संकटमोचन के अलावा हनुमान जी को मंगल ग्रह का नियंत्रक भी माना जाता है, इसलिए मंगलवार के दिन हनुमान जी की पूजा की जाती है। एक मान्यता के अनुसार मंगलवार का व्रत रखने के साथ-साथ हनुमान चालीसा और सुंदरकांड का पाठ करना बहुत ही अधिक फलदायी होता है।

ऐसे करें हनुमान जी की विधि विधान से पूजा

▪️मंगलवार की सुबह स्नान कर पूजा का शुभारंभ करें।

▪️हनुमान जी को स्नान कराएं।

▪️इसके बाद सिंदूर लगाएं।

▪️सिंदूर लगाने के बाद हनुमान जी को जनेऊ पहनाएं।

▪️इसके बाद धतूरे के पत्तों की माला धारण कराएं। जिसके पत्तों में श्रीराम नाम अंकित हो।

▪️हनुमान चालीसा और बजरंग बाण का पाठ करें।

▪️मंगलवार का व्रत रखें और शाम की पूजा में बूंदी का प्रसाद चढ़ाएं।

▪️मंगलवार के दिन हनुमान जी को केवड़ा और गुलाब की माला अर्पित करें।

▪️मंदिर जाएं और सरसों के तेल का दीपक जलाएं। 

हनुमान जी को शीघ्र प्रसन्न करने हेतु पूजा के समय जरूर करें इस मंत्र का जाप

अतुलितबलधामं हेमशैलभदेहं

दनुजवनकृषानुम् ज्ञानिनामग्रगण्यम।

सकल गुणनिधानं वानराणामधीशम्

रघुपतिप्रियभक्तम् वातजातं नमामि।। 

ध्यान करने के बाद हाथ में फूल और अन्य सामग्री को श्री हनुमान जी को अर्पित करनी चाहिए। राम दरबार के सामने हनुमान जी का ध्यान करने से श्री राम की कृपा भी प्राप्त होती है। हनुमान जी की पूजा अर्चना करने से श्री राम जी की कृपा भी जरूर होती है।

वो गीत है न ” दुनिया चले न श्री राम के बिना, राम जी चलें न हनुमान के बिना “। इस पूजा के दौरान ही हनुमान जी को इत्र, सिंदूर, कुमकुम, चावल, फल और फूलों का हार चढ़ाएं। 

पौराणिक कथाओं के अनुसार

हनुमान जी का जन्म चैत्र मास की पूर्णिमा के दिन मंगलवार को हुआ था। इसीलिए, हर साल जब चैत्र मास की पूर्णिमा आती है, तो उनका जन्मदिन मनाया जाता है, जिसे श्री हनुमान जयंती कहा जाता है। इसीलिए मंगलवार को भगवान हनुमान की पूजा करने के लिए बहुत ही शुभ दिन माना जाता है।

ज्योतिष के अनुसार

वैदिक धर्म में दिन और देवता ज्योतिष के विकास से प्रभावित होकर ढाले गए थे। मंगलवार का दिन ज्योतिष में मंगल ग्रह से जुड़ा हुआ है जो शारीरिक प्रयास, कर्म, साहस, समर्पण, युद्ध, क्रोध, लाल, पुरुषत्व आदि को दर्शाता है।

अब, प्रत्येक ग्रह को जीवन के एक क्षेत्र को इंगित करने के लिए कहा जाता है, इसलिए कहा जाता है कि उस ग्रह के लिए पूजा करने से उसके परिणामों में सुधार होता है। इस प्रकार, ग्रहों को देवताओं के रूप में व्यक्त किया गया था या ऐसा कह सकते हैं कि ग्रह उस समय के प्रचलित देवताओं से जुड़े हुए थे।

हनुमान जी में मंगल के गुण हैं। ब्रह्मचर्य, पुरुषत्व, शक्ति, साहस, दृढ़ संकल्प, शक्ति, आदि तो इस कारण से हनुमान जी मंगल के अधिष्ठाता देवता बन जाते हैं। यही कारण है कि सिंदूरी हनुमान या लाल हनुमान की पूजा की जाती है क्योंकि लाल रंग मंगल का एक और संकेत है। मंगल को प्रसन्न करने के लिए हनुमान जी की पूजा की विधि बनाई गई थी। 

हलवाई द्वारा बनाए गए लड्डू मंगल को इंगित करते हैं, लाल मंगल को इंगित करते हैं, पुरुषों के लिए ब्रह्मचर्य मंगल का संकेत देते हैं। वैसे ही मंगल भी एक लड़की के लिए पति का प्रतीक है, इस प्रकार जो लोग मंगलवार को हनुमान की पूजा करते हैं, उन्हें मंगल को प्रसन्न करने से एक अच्छा पति मिलता है।

और कहा जाता है कि जो पुरुष मंगलवार के दिन हनुमान जी की पूजा करते हैं उन्हें बल, साहस, सफलता और दृढ़ संकल्प की प्राप्ति होती है। मंगल के सभी गुण। हनुमान जी को भगवान शिव का अवतार माना जाता है। केसरी और अंजना के पुत्र, हनुमान का जन्म मंगलवार को चैत्र के हिंदू महीने के दौरान पूर्णिमा के दिन हुआ था।

इसलिए, भक्त मंगलवार को श्री हनुमान की पूजा करते हैं। यदि आप ग्रेगोरियन कैलेंडर के अनुसार जाते हैं, तो हनुमान जयंती मार्च या अप्रैल में एक दिन के साथ होगी। इसके अलावा, मंगलवार को हिंदी में मंगलवर कहा जाता है, जिसका अर्थ है शुभता का दिन।

सबसे दिलचस्प बात तो ये है कि हनुमान जी को चिरंजीवी भी कहा जाता है, जिसका अर्थ है कि वे अमर हैं। वे आज भी किसी न किसी रूप में विद्यमान है।श्री राम के सबसे प्रिय भक्त, सबसे प्रिय सेवक के रूप में अधिक पूजनीय, हनुमान जी अपनी शक्ति और ज्ञान के लिए जाने जाते हैं।

उन्हें पवन पुत्र के रूप में भी जाना जाता है क्योंकि वायु के देवता ने भगवान शिव का आशीर्वाद लिया और माता अंजना को उनके जन्म के बारे में संदेश दिया। ऐसा माना जाता है कि आज भी जहाँ कहीं भी श्री राम कथा हो रही होती है वहाँ हनुमान जी भी अवश्य जाते हैं बल्कि ऐसा कहा जाता है कि श्री राम कथा श्रवण के लिए सभी श्रोताओं में हनुमान जी सबसे पहले आते हैं और सबसे आखिर में जाते हैं।

हनुमान चालीसा अर्थ सहित – Hanuman Chalisa in Hindi

Leave a New Comment

Related

Trending