10 Lines on Ganesh chaturthi in Hindi । गणेश चतुर्थी पर 10 वाक्य

10 lines on ganeshchaturthi

गणेश चतुर्थी का उत्सव संपूर्ण भारत के विभिन्न हिस्सों में पूरे हर्षोल्लास और उत्साह के साथ मनाया जाता है। हालांकि, महाराष्ट्र विनायक चतुर्थी के भव्य उत्सव के लिए एक लोकप्रिय राज्य है। गणेश चतुर्थी घर में भगवान गणेश की मूर्ति की स्थापना के साथ शुरू होती है और उनके विसर्जन के बाद समाप्त होती है।

प्रत्येक वर्ष ये त्योहार रंग, खुशी, आशा और समृद्धि लाता है। लोग इस त्योहार को बहुत ही धूम धाम से नाच गाना करते हुए बाजे गाजे के साथ मनाते हैं। पहले खूब धूम धाम से गणपति की मूर्ति की स्थापना की जाती है और बाद में पूरे बाजे गाजे के साथ नम आँखों से उन्हें विदा भी किया जाता है। 

>>>>होली पर 10 लाइन<<<<

10 दिनों तक चलने वाला त्योहार

भगवान गणेश की मूर्ति की स्थापना 10 दिनों के लिए देश के विभिन्न हिस्सों में की जाती है। उनकी उपस्थिति से सभी को शक्ति, बुद्धि और सौभाग्य आदि का आशीर्वाद प्राप्त होता है। पंडालों में 10 दिनों तक चलने वाले उत्सव से भाईचारे की भावना भी विकसित होती है।

इन 10 दिनों के दौरान भक्त, भगवान श्री गणेश से प्रार्थना करते हैं और उन्हें मिठाई, आभूषण, चंदन और अन्य चीजें चढ़ाते हैं। लोग पंडाल में श्लोकों का जाप करते हैं और भक्ति भाव से भरे गीत गाते हैं। 11वें दिन पूरे हर्षोल्लास और पुनः अगले वर्ष मिलने की आशा के साथ भगवान गणेश को जल में विसर्जित किया जाता है।

गणेश उत्सव का इतिहास

भारतीय पौराणिक कथाओं और शास्त्रों से पता चलता है कि गणेश चतुर्थी का उत्सव छत्रपति शिवाजी महाराज के कार्यकाल में शुरू हुआ था। उन्होंने लोगों के दिलों में संस्कृति और देशभक्ति को जिंदा रखने के लिए इस त्योहार की शुरुआत की थी। ये पेशवा के शासित महाराष्ट्र तक जारी रहा।

उसके बाद स्वतंत्रता सेनानी बाल गंगाधर तिलक ने लोगों को एकजुट करने के लिए स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान फिर से इस उत्सव की शुरुआत की। 

गणेश चतुर्थी उत्सव का मुख्य पंडाल

गणेश चतुर्थी पूरे देश में मनाई जाती है, लेकिन गणेश चतुर्थी की अंतिम तैयारी के लिए महाराष्ट्र को हराया नहीं जा सकता। भारत का सबसे बड़ा गणेश उत्सव पंडाल हमेशा मुंबई में स्थापित किया गया है और इसे लालबाग चा राजा पंडाल के नाम से जाना जाता है।

ये पहली बार सन् 1934 में स्थापित किया गया था और तब से लोग लालबाग चा पंडाल में गणेश चतुर्थी मनाते हैं, यहाँ बहुत बड़ी संख्या में लोग उपस्थित होते हैं। 

गणेश चतुर्थी पर 10 वाक्य (10 lines on Ganesh Chaturthi )

▪️गणेश चतुर्थी एक हिंदू त्योहार है जो हर साल मनाया जाता है। ये खासकर महाराष्ट्र और कर्नाटक में मनाया जाता है। 

▪️ये भगवान शिव के सबसे छोटे पुत्र श्री गणेश की जयंती के रूप में मनाया जाता है।

▪️गणेश चतुर्थी हर साल अगस्त या सितंबर के महीने में मनाई जाती है।

▪️हिंदू पौराणिक कथाओं में, भगवान गणेश “प्रथम पूज्य” हैं और सभी देवताओं में सबसे पहले उनकी पूजा की जाती है।

▪️भगवान गणेश को “विघ्न हर्ता” के रूप में माना जाता है, जो हमारे जीवन की सभी बाधाओं को दूर करते हैं।

▪️कोई भी बड़ा, महत्वपूर्ण और धार्मिक कार्य शुरू करने से पहले लोग सबसे पहले भगवान गणेश को याद करते हैं। 

▪️सभी परेशानियों और बाधाओं से छुटकारा पाने के लिए लोग भगवान गणेश की पूजा करते हैं और उनका स्मरण करते हैं।

▪️गणेश चतुर्थी के दौरान, लोग गणपति की मूर्ति को अपने घरों में लाते हैं और पूरी भक्ति के साथ उनकी पूजा अर्चना करते हैं।

▪️विभिन्न ट्रस्ट और समाज शहर में भगवान  श्री गणेश की पूजा के लिए बड़े ‘पंडालों’ का आयोजन करते हैं।

▪️प्रसिद्ध फिल्मी सितारे भी गणेश चतुर्थी मनाते हैं और गणपति की मूर्तियों को अपने-अपने घर लाते हैं।

गणेश चतुर्थी पर 10 वाक्य (10 lines on Ganesh Chaturthi )

▪️गणेश चतुर्थी जिसे विनायक चतुर्थी या विनायक चविटी के नाम से भी जाना जाता है, भगवान गणपति की जयंती का प्रतीक है।

▪️हिंदू इस उत्सव को हिंदी महीने के हिसाब से मुख्यता भाद्रपद में मनाते हैं।

▪️गणेश चतुर्थी 10 दिनों का त्योहार है, जिसकी शुरुआत भाद्रपद के चौथे दिन से होती है।

▪️गणेश चविटी की शुरुआत मराठा शासनकाल में छत्रपति शिवाजी महाराज ने की थी।

▪️19वीं शताब्दी में बाल गंगाधर तिलक ने इस अवसर को फिर से स्वतंत्रता के साधन के रूप में पुनर्जीवित किया। उन्होंने देखा कि गणेश चतुर्थी केवल उच्च वर्ग के लोगों द्वारा मनाई जाती थी फिर उन्होंने सभी के लिए एक सार्वजनिक उत्सव शुरू किया।

▪️भगवान गणपति भगवान शिव और माता पार्वती के दूसरे और सबसे छोटे पुत्र हैं और सर्वप्रथम पूजे जाने वाले देवता हैं।

▪️उन्हें सभी बुराइयों और बाधाओं का नाश करने वाला विघ्न विनाशक भी कहा जाता है।

▪️भक्त, गणेश भगवान की मूर्ति को घर लाते हैं और इसे लगातार एक, तीन, पांच, सात या दस दिनों तक रखते हैं।

▪️भक्त भगवान को ध्रुव, मोदक और पूरन पोली चढ़ाते हैं और बाद में सभी को प्रसाद वितरित करते हैं।

▪️एक हिंदू ग्रंथ, गणेश अथर्वशीर्ष अथर्ववेद का एक खंड मंदिरों या घरों में भक्तों द्वारा पढ़ा जाता है। 

गणेश चतुर्थी पूजा विधि

गणेश चतुर्थी भारत में एक महत्वपूर्ण हिंदू त्योहार है। भगवान गणेश का स्वागत उनके पसंदीदा भोग के साथ किया जाता है। सुबह और शाम मंगल पूजा और आरती पवित्र अनुष्ठान हैं। भगवान की कृपा से रिद्धि-सिद्धि मिलती है। कालोनियों व बाजारों में 15 दिन पहले से ही उत्सव कीतैयारियां शुरू कर दी जाती हैं। 

गणेश चतुर्थी के चार मुख्य अनुष्ठान –

आवाहन और प्राणप्रतिष्ठा

“दीप प्रज्वलन” और “संकल्प” द्वारा मूर्तियों में देवता की प्राणप्रतिष्ठा की प्रक्रिया होती है। भगवान गणेश को घर आने और परिवार को आशीर्वाद देने का निमंत्रण दिया जाता है।

षोडशोपचार

षोडशशोपचार का अर्थ है भगवान गणेश को श्रद्धांजलि के 16 रूप। अनुष्ठान की शुरुआत मूर्ति के पैर धोने, दूध, घी, शहद, दही और चीनी के स्नान से होती है और उसके बाद गंध और गंगाजल के प्रयोग से होती है। नए कपड़े पहनाये जाते हैं, उसके बाद फूल, अखंड चावल, माला, सिंदूर और चंदन, मोदक, पान के पत्ते, नारियल, अगरबत्ती और दीयों से भोग लगाया जाता है और पूजन किया जाता है।

उत्तरपूजा

विसर्जन से पहले ये एक प्रकार का विदाई समारोह होता है। लोग एक जगह इकट्ठा होते हैं और एक साथ आनंद मनाते हैं। सभी नाचते गाते हैं और बड़े उत्साह के साथ एक दूसरे पर रंगों की वर्षा करते हैं। ब्राह्मण मंत्रों और श्लोकों का पाठ करते हैं और लोग गणपति बप्पा से अगले साल जल्द ही अपने घर आने का अनुरोध करते हैं। गणपति बप्पा मौर्या अगली बरस तू जल्दी आ।

गणपति विसर्जन

बहुत ही दुःख के साथ जलाशयों में डूबी मूर्ति को लोग नम आंखों से नमस्कार करते हैं और अगली वर्ष पुनः जल्दी ही मिलने की कामना करते हैं।

यहां भी पढ़ें:

Leave a New Comment