दिनों के नाम और उनका हिंदू धर्म में महत्व – Days Name in Hindi

अगर हम आपसे पूछे कि आज कौन सा दिन है? तो आप तुरंत कहेंगे आज Sunday, Monday, Tuesday, Wednesday, Thursday, Friday या Saturday है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि सप्ताह में आने वाले सातों दिनों को हिंदी में क्या कहते हैं?

यदि नहीं तो आज हम आपको बताएंगे कि हिंदी में सप्ताह के दिनों को क्या कहते हैं और उनका हिंदू धर्म में क्या महत्व है? क्योंकि हिंदू धर्म में सप्ताह के सातों दिन विशेष रूप से किसी न किसी देवता की पूजा की जाती है। जिससे प्रत्येक दिन आपके जीवन पर उनकी कृपा बनी रहती है।

Days Name in Hindi और हिंदू धर्म में उनका महत्व

सोमवार (Monday)

सोमवार का नाम भगवान चंद्रमा के नाम पर पड़ा है। चंद्र देवता का पर्यायवाची सोम है। इसलिए सप्ताह (week) का पहला दिन सोमवार (somvar) कहलाता है। इस दिन विशेष रूप से कुंवारी लड़कियां सुयोग्य वर की प्राप्ति के लिए भगवान शिव की पूजा करती हैं।

सोमवार के दिन शिवलिंग पर सफेद रंग का फूल चढ़ाने से भगवान शिव आपकी हर मनोकामना पूर्ण करते हैं। इसलिए सप्ताह के पहले दिन अधिकतर लोग सफेद रंग के वस्त्र या माथे पर तिलक धारण करते हैं।
कहा जाता है कि सोमवार के दिन किसी काम की शुरुआत करना अच्छा माना जाता है।

जैसे – विवाह, घर का निर्माण, स्कूल में दाखिला, नामकरण संस्कार आदि।  इसके अलावा सोमवार के दिन पूजा के दौरान कुछ लोगों द्वारा रंगोली भी बनाई जाती है।जोकि इस दिन धन और समृद्धि का सूचक होती है।

मंगलवार (Tuesday)

इसका नाम मंगल ग्रह (mars) के नाम पर रखा गया है। इसलिए सप्ताह (week) का दूसरा दिन मंगलवार (mangalvar) के नाम से जाना जाता है। इस दिन भगवान गणेश और हनुमान जी की पूजा का महत्व है।

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, जातक अपनी कुंडली को मंगल की कुदृष्टि से बचाने के लिए भी इस दिन व्रत धारण करते हैं। साथ ही मंगलार को लाल रंग के कपड़े पहनने का महत्व है। अधिकतर लोग संतान सुख के लिए भी इस दिन व्रत रखते हैं।

मंगलवार के दिन कपड़े सिलवाना अशुभ माना जाता है। जबकि घर खरीदना इस दिन उचित माना जाता हैं। इस दिन मंगल ग्रह को व्यवस्थित रखने के लिए आपको मसूर की दाल का दान करने की सलाह दी जाती है।

इसके अलावा मंगलवार के दिन पूजा के दौरान कुछ लोगों द्वारा रंगोली भी बनाई जाती है। जोकि इस दिन धन और शास्त्रों का सूचक होती है।

बुधवार (Wednesday)

इसका नाम बुध ग्रह (mercury) के नाम पर पड़ा है। इसलिए सप्ताह (week) का तीसरा दिन बुधवार (budhvar) कहलाता है। इस दिन जगत के पालनहार भगवान विष्णु की पूजा की जाती है। बुधवार के दिन लोग अपने दूसरे लोगों के साथ संबंध उचित बनाए रखने के लिए व्रत धारण रखते हैं।

इस दिन हरे रंग के कपड़े पहने जाते हैं और मूंग दाल व घी का दान किया जाता है। इस दिन मूंग दाल जानवरों को खिलाने से पुण्य की प्राप्ति होती है। इसके अलावा बुधवार के दिन पूजा के दौरान कुछ लोगों द्वारा रंगोली भी बनाई जाती है। जोकि घर में सुख शांति का सूचक होती है।

बृहस्पतिवार या गुरुवार (Thursday)

इसको बृहस्पति ग्रह (jupiter) के नाम से जाना जाता है। इसलिए सप्ताह (week) का चौथा दिन बृहस्पति या गुरुवार (brahaspativar ya guruvar) के नाम से जाना जाता है। इस दिन भी भगवान विष्णु को पूजा जाता है।

इस दिन दूध से बने पदार्थों का सेवन करना चाहिए। साथ ही गुरुवार के दिन यात्रा करना फलदाई माना जाता है। गुरु को समस्त ग्रहों का राजा कहा जाता है, इसलिए इसका हिंदू धर्म में विशेष महत्व है। इस दिन लोग कढ़ी चावल का भी सेवन करते हैं।

इसके अलावा बृहस्पति के दिन पूजा के दौरान कुछ लोगों द्वारा रंगोली भी बनाई जाती है। जोकि इस दिन धन लाभ का सूचक होती है।

शुक्रवार (Friday)

मुख्य रूप से हिंदू महिलाओं और मुस्लिम धर्म के लिए इस दिन का विशेष महत्व होता है। इस दिन हिंदू महिलाएं संतोषी माता और वैभव लक्ष्मी का व्रत धारण करती है। साथ ही मुस्लिम धर्म के लोग जुम्मे की नमाज अदा किया करते हैं।

इसका नाम शुक्र ग्रह (venus) के नाम पर पड़ा है, इसलिए सप्ताह का पांचवा दिन शुक्रवार (shukravar) के नाम से जाना जाता है। इस दिन लोग मीठी चीज़ों का दान करते हैं और सफेद रंग के कपड़े पहनते हैं। शुक्रवार का व्रत संतान प्राप्ति के उद्देश्य और खुशहाल जीवन के लिए रखा जाता है।

शुक्रवार के दिन व्यक्ति को गौ माता की सेवा करना चाहिए। इसके अलावा शुक्रवार के दिन पूजा के दौरान कुछ लोगों द्वारा रंगोली भी बनाई जाती है।जोकि बच्चों की शादी में आने वाली अड़चन को दूर करने का सूचक होती है।

शनिवार (Saturday)

इसे शनि देवता की पूजा का दिन माना जाता है। इसका नाम शनि ग्रह (saturn) के नाम पर पड़ा। इसलिए सप्ताह का छठा दिन शनिवार (shanivar) के नाम से जाना जाता है। आज के दिन शनि देवता की कुदृष्टि से बचने के लिए लोग रामभक्त हनुमान जी की आराधना करते हैं।

शनिवार के दिन मांस, मदिरा के सेवन से बचना चाहिए और इस दिन काले कपड़े का दान करना लाभदायक होता है। इसके अलावा शनिवार के दिन पूजा के दौरान कुछ लोगों द्वारा रंगोली भी बनाई जाती है। जोकि अच्छे स्वास्थ्य और भूत प्रेत की बाधा को दूर करने का सूचक होती है।

रविवार या इतवार (sunday)

भगवान सूर्य के पर्यायवाची शब्द से रविवार का नाम रखा गया है। इसलिए सप्ताह का आखिरी और सातवां दिन रविवार (ravivar) के नाम से जाना जाता है। इस दिन को लोग छुट्टी के रूप में व्यतीत करते हैं। आज के दिन लोग सूर्य देवता की आराधना के समय चंदन का तिलक लगाते हैं और उनपर लाल रंग के पुष्प अर्पित करते हैं।

कहते हैं जिन लोगों को त्वचा संबंधी कोई गंभीर रोग है, उन्हें रविवार के दिन का व्रत रखना चाहिए। इसके अलावा रविवार के दिन पूजा के दौरान कुछ लोगों द्वारा रंगोली भी बनाई जाती है। जोकि सूर्य देवता को प्रसन्न करने के उद्देश्य से बनाई जाती है।

इस प्रकार, हम आशा करते हैं कि आपको सप्ताह के सातों दिन से जुड़े विशेष तथ्यों की जानकारी अवश्य हो गई होगी। ऐसे ही ज्ञानवर्धक लेख पढ़ने के लिए हमारी वेबसाइट पर दुबारा आना ना भूलें।


अंशिका जौहरी

मेरा नाम अंशिका जौहरी है और मैंने पत्रकारिता में स्नातकोत्तर किया है। मुझे सामाजिक चेतना से जुड़े मुद्दों पर बेबाकी से लिखना और बोलना पसंद है।

Leave a Comment

You cannot copy content of this page.