ऋतुओं के नाम – Seasons Name in Hindi

अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार, एक साल में 365 दिन होते हैं। जिनको 12 अलग-अलग महीनों में विभाजित किया गया है। इन 12 महीनों के दौरान भारत देश की मौसम और जलवायु में सदैव परिवर्तन होता रहता है। जिसे हम ऋतु कहते हैं।

क्या आप जानते हैं कि हिंदू कैलेंडर (विक्रम संवत) के अनुसार, इन ऋतुओं को क्या कहा जाता है और इनका हिंदू धर्म में क्या महत्व है? यदि नहीं, तो आज हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से यही जानकारी देने वाले हैं।

इससे पहले आप यह जान लीजिए कि मौसम और जलवायु में परिवर्तन किस कारण से होता है? ये तो हम जानते ही हैं कि हमारी पृथ्वी सूर्य का चक्कर लगाती है। ऐसे में सूर्य के प्रकाश का तीव्र और कम हो जाना किसी भी जगह के मौसम और जलवायु में परिवर्तन का प्रमुख कारण होता है।

इन्हें ही वैज्ञानिक आधार पर ऋतुएं कहा गया है। अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार तीन प्रमुख ऋतुएं होती हैं, जबकि हिंदी कैलेंडर में कई प्रकार की ऋतुओं का वर्णन किया गया है। जोकि निम्न प्रकार हैं-

ग्रीष्म ऋतु (Summer)

ग्रीष्म ऋतु (Summer)

हिंदी कैलेंडर के अनुसार ग्रीष्म ऋतु ज्येष्ठ और आषाढ़ के महीने में पड़ती है। जबकि अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार यह समय मई और जून का कहलाता है। इसमें रात छोटी और दिन लंबे हो जाते हैं। इस दौरान सूर्य की भीषण आग से धरती तपने लगती है। ग्रीष्म काल में आम, तरबूज, खरबूजा, लीची, आलूबुखारा आदि फल खाए जाते हैं।

हिंदू धर्म के लोगों द्वारा इन महीनों में गंगा दशहरा, वट सावित्री व्रत, शीतलाष्टमी, देवशयनी एकादशी, गुरु पूर्णिमा और निर्जला एकादशी मनाई जाती है। इस प्रकार, ग्रीष्म ऋतु के महीने साल के सबसे गर्म महीने माने जाते हैं।

शरद ऋतु (Autumn)

Autumn

हिंदी कैलेंडर में अश्विन और कार्तिक महीने से शरद ऋतु की शुरुआत मानी जाती है। तो वहीं अंग्रेजी कैलेंडर के मुताबिक शरद ऋतु अक्टूबर और नवंबर के महीने में आती है। इस दौरान प्रकृति का वातावरण बहुत शुद्ध हो जाता है।

भगवान श्री कृष्ण की जन्माष्टमी, दशहरा, करवा चौथ, गोपाष्टमी, कार्तिक पूर्णिमा, छठ पूजा, श्राद्ध पक्ष, देवोत्थान एकादशी, अक्षय नवमी, बैकुंठ चतुर्दशी, स्कंद षष्ठी, दुर्गा पूजा और देवी मां के नवरात्र व्रत आदि शरद ऋतु में ही मनाए जाते हैं। इस प्रकार, शरद ऋतु का मौसम सभी ऋतुओं में सबसे अच्छा माना जाता है।

वर्षा ऋतु (Rainy)

rainy

इसे हिंदी में श्रावण और भाद्रपद का महीना कहा जाता है। अंग्रेजी में वर्षा ऋतु जुलाई से आरंभ होकर सितंबर तक रहती है। कहा जाता है कि इस दौरान इंद्र देवता धरती वासियों से प्रसन्न होते हैं और वर्षा करते हैं।

वर्षा ऋतु में नदी, तालाब आदि जल से भरे होते हैं। साथ ही फसल का उत्पादन भी अच्छा होता है। इन दोनों महीनों में मुख्य रूप से संत कबीरदास की जयंती, तीज, रमजान(मुस्लिम), रक्षाबंधन  गुरु पूर्णिमा और योग दिवस आदि  मनाया जाता है।

बसंत ऋतु (Spring)

Spring

कहा जाता है कि बसंत ऋतु सबसे खूबसूरत मौसमों में से एक है। इस समय पेड़ों के पुराने पत्ते गिरने लगते हैं और उन पर नई कलियां खिलने लगती है। हिंदी में बसंत ऋतु चैत्र और बैशाख के महीने में आती है। और वहीं अंग्रेजी में यह मार्च और अप्रैल का महीना होता है।

इस महीने में हिंदुओं के काफी महत्वपूर्ण त्योहार मनाए जाते हैं। जैसे:- होली, राम नवमी, हनुमान जयंती, वसंत पंचमी, अक्षय तृतीया, परशुराम जयंती आदि। बसंत ऋतु अपने साथ प्राकृतिक सौंदर्य लेकर आती है।

हेमंत ऋतु (Hemant)

इसे सर्दियों से पहले का मौसम माना जाता है। हिंदी में अग्रायण और पौष का महीना हेमंत ऋतु के नाम से जाना जाता है। अंग्रेजी में इसे दिसंबर और जनवरी का माह कहा जाता है। यह महीना प्रकृति में बदलाव का संदेश लेकर आता है।

जिसमें अहोई अष्टमी, भाईदूज, गोवर्धन पूजा, तुलसी विवाह, गोपाष्टमी, गोवर्धन, नरक चतुर्दशी आदि मुख्य हिंदू त्योहार मनाए जाते हैं।

शिशिर ऋतु (Winter)

winter

इसे ठंडा और शीत काल कहा जाता है। जोकि हिंदी में माघ और फाल्गुन का महीना कहलाता है और अंग्रेजी में इसे जनवरी और फरवरी का महीना माना जाता है। अंग्रेजी भाषा में जनवरी के महीने को नव वर्ष के रूप में भी मनाया जाता है। इस दौरान खरीफ फसल की खेती की जाती है।

इस दौरान काफी मात्रा में अलग अलग प्रकार की सब्जियों की उपलब्धता रहती है। हिंदुओं में इस माह में हर्षोल्लास से मकर संक्रांति, वसंत पंचमी और महाशिवरात्रि मनाई जाती है। तो वहीं सिख समुदाय के लोग इस माह में लोहड़ी का पर्व मनाते हैं।


आशा करते हैं कि हमारे द्वारा दी गई जानकारी अवश्य ही आपको महत्वपूर्ण लगी होगी। ऐसे ही ज्ञानवर्धक जानकारी पाने के लिए हमारी वेबसाइट पर दुबारा आना ना भूलें।


अंशिका जौहरी

मेरा नाम अंशिका जौहरी है और मैंने पत्रकारिता में स्नातकोत्तर किया है। मुझे सामाजिक चेतना से जुड़े मुद्दों पर बेबाकी से लिखना और बोलना पसंद है।

Leave a Comment

You cannot copy content of this page.