जैक मा की जीवनी – Jack Ma Biography in Hindi

हमारे सामने देश और दुनिया के कई ऐसे लोगों के उदाहरण मौजूद है। जिन्होंने विषम परिस्थितियों में भी हिम्मत से काम लिया और आज सारी दुनिया उनके सफलता के रहस्य को जानना चाहती है। एक ऐसी ही शख्सियत है एशिया के सबसे अमीर व्यक्ति जैक मा। जोकि दुनियाभर में प्रसिद्ध चाइनीज कंपनी अलीबाबा के प्रमुख और सह संस्थापक माने जाते हैं। इन्होंने अपने जीवन में सफलता पाने के लिए कड़ी मेहनत की और आज यह लाखों लोगों के प्रेरणास्रोत कहे जाते है। चलिए आपको बताते है इनके जीवन के शुरुआती दौर से लेकर अब तक के सफर के बारे में।

जैक मा का आरंभिक जीवन

जैक मा का जन्म 10 सितम्बर साल 1964 को हांग्जो, झेजियांग, चीन में हुआ था। मात्र 13 साल की छोटी उम्र में ही जैक मा ने अंग्रेजी भाषा सीखनी शुरू कर दी थी। इसके लिए इन्होंने किसी शिक्षक की मदद नहीं ली थी। बल्कि खुद ये पर्यटक गाइड बन गए थे। इनके बचपन का नाम मा यूं था, लेकिन विदेशी पर्यटकों ने इन्हें जैक उपनाम दिया था।

ऐसे में आगे चलकर यह जैक मा नाम से सम्पूर्ण विश्व में प्रसिद्ध हो गए। हालांकि जैक मा को अपनी प्रारम्भिक शिक्षा प्राप्ति के दौरान काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा था। जिसके चलते वह कक्षा पांच में दो बार और कक्षा आठ में करीब तीन बार फेल हुए। तो वहीं चीन में साल भर में एक बार ही प्रवेश परीक्षा का आयोजन किया जाता है, जिसे उत्तीर्ण करने में जैक मा को लगभग चार साल लग गए थे। ऐसे में जैक मा ने हांग्जो विश्वविद्यालय से साल 1988 में कला विषयों के साथ स्नातक की डिग्री हासिल की थी।

हालांकि बचपन से ही जैक मा को अंग्रेजी भाषा का अध्ययन करने में रुचि थी। इसी का परिणाम रहा कि जैक मा स्नातक की डिग्री पूरी करने के बाद हांग्जो विश्वविद्यालय में अंग्रेजी भाषा और अंतरराष्ट्रीय व्यापार में व्याख्याता के तौर पर पहचाने जाने लगे थे। लेकिन अभी उनके करियर को आसानी से सफलता हाथ नहीं लगने वाली थी। जिसके चलते उन्होंने केएफसी समेत 30 कंपनियों में नौकरी के लिए आवेदन किया था लेकिन हर जगह से उन्हें अयोग्य घोषित कर दिया गया। लेकिन जैक मा ने फिर भी हार नहीं मानी। उन्होंने पुलिस की नौकरी के लिए भी आवेदन किया था। लेकिन उनके दुबले पतले शरीर की वजह से उन्हें वहां से भी निराशा हाथ लगी।

जैक मा का प्रारंभिक करियर

साल 1994 में जैक मा जब अपने दोस्तों के साथ अमेरिका गए। तब उन्होंने पहली बार इंटरनेट का नाम सुना। जिसके बाद उन्होंने सबसे पहले इंटरनेट पर बियर शब्द की खोज की। तब उन्होंने पाया कि इंटरनेट पर चीन को छोड़कर सभी देशों से जानकारी उपलब्ध हो रही है। जिसके बाद उन्होंने वापस आकर अपने 18 दोस्तों के साथ मिलकर अलीबाबा कंपनी की नींव रखी। हालांकि प्रारंभ में ना तो उनकी कंपनी के पास अधिक पूंजी थी और ना ही ऑफिस। लेकिन देखते ही देखते उनकी कंपनी में करीब 25 मिलियन डॉलर का निवेश बढ़ गया। क्योंकि जैक मा की कंपनी अलीबाबा ने चीन के लोगों को इंटरनेट संबंधी ज्ञान और कार्यशैली का ज्ञान प्रदान कर बहुत ही कम समय में उनका भरोसा जीत लिया था। साथ ही जैक मा ने अपने दोस्तों के साथ मिलकर एक ऐसी वेबसाइट का निर्माण किया था। जिसमें चीन से जुड़ी जानकारियां दी गई थी, इसके जवाब में जैक मा को चीन की जनता के ईमेल्स भी प्राप्त हुए थे। जिससे जैक मा का आत्मविश्वास और अधिक बढ़ गया और उनकी अलीबाबा कंपनी दुनिया की बेहतरीन कंपनियों में शुमार हो गई। ऐसे में प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में चीन को आगे ले जाने का श्रेय काफी हद तक जैक मा की कंपनी अलीबाबा को जाता है।

जैक मा के पुरस्कार

जैक मा को सिर्फ एशिया का सबसे अमीर व्यक्ति ही नहीं माना जाता है बल्कि वह एक राजनीतिज्ञ, निवेशक और समाज सेवी भी हैं। ऐसे में उनके कार्यों से प्रभावित होकर साल 2004 में उन्हें सीसीटीवी (चाइना सेंट्रल टेलीविजन) द्वारा टॉप 10 आर्थिक व्यक्तित्व के तौर पर सम्मानित किया गया था। इसके अलावा वर्ल्ड इकोनोमिक फोरम ने साल 2005 में जैक मा को यंग ग्लोबल लीडर अवॉर्ड से नवाजा था। साथ ही 2008 में उन्हें विश्व के सर्वश्रेष्ठ सीईओ का खिताब मिला था। तो वहीं साल 2014 में फोर्ब्स द्वारा जारी की गई सूची में उन्हें दुनिया भर के 30 शक्तिशाली व्यक्तियों के रूप में शामिल किया गया। साथ ही हांगकांग विश्वविद्यालय से जैक मा को डॉक्टरेट की उपाधि से भी अलंकृत किया गया।

यदि बात करें जैक मा के सामाजिक जीवन की तो जैक मा एक परोपकारी संगठन चलाते हैं जोकि विश्व भर में शिक्षा, स्वास्थ्य और पर्यावरण को लेकर कार्यरत है। साथ ही साल 2008 में आए सिचुआन भूकंप पीड़ितों को जैक मा ने काफी मिलियन डॉलर का दान किया था। इसके अलावा उनकी कंपनी ने नेपाल में आए भूकंप से उजड़े करीब 1000 घरों के पुननिर्माण का इंतजाम किया था। इस प्रकार जैक मा ने समय समय पर कई सारे गैर लाभकारी कार्यों को संपन्न कर दुनिया में अपनी अलग पहचान बनाई है। हालांकि साल 2018 में जैक मा ने अलीबाबा कंपनी से सेवानिवृत्त होने का फैसला ले लिया था और अब वह एक सलाहकार के रूप कंपनी के साथ जुड़े हुए हैं।

अलीबाबा कंपनी का सामान्य परिचय

जैक मा द्वारा स्थापित अलीबाबा चीन की एक जानी मानी ई कॉमर्स कंपनी है। जिसमें साल 2014 के बाद जारी की गई एक सूची में लगभग 26,845 कर्मचारी कार्यरत हैं। बात करें इसकी सहायक कंपनियों के बारे में तो अलीपे, टी मॉल, टओ बओ, यूसी वेब, एवर ग्रांडे एफ सी इत्यादि शामिल हैं। साथ ही इसके वर्तमान सीईओ डेनियल झांग है। बात की जाए कंपनी के राजस्व के बारे में, तो अब यह बढ़कर 16.7 अरब डॉलर हो गया है और इसकी कुल संपत्ति 111.54 बिलियन है। तो वहीं अलीबाबा कंपनी ने भारत में अमेज़न के साथ मिलकर भारत क्राफ्ट पोर्टल की शुरुआत की है। इतना ही नहीं अलीबाबा ने समस्त कंपनियों के सेल के सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं और साल दर साल अलीबाबा कंपनी ओद्यौगिक जगत में नए कीर्तिमान स्थापित कर रही है।

उम्र के किस पड़ाव में क्या करना चाहिए – जैक मा

1. जैक मा के अनुसार, यदि आपकी उम्र 20 से 25 के बीच है तो आपको अपना अधिक समय चीज़ों को सीखने में लगाना चाहिए। ताकि भविष्य में आपको इसका फायदा मिल सके।

2. जैक मा के अनुसार, यदि आपकी उम्र 25 से 30 के बीच है तो आपको यह देखना चाहिए कि आपका बॉस कौन है और उसे फॉलो करना चाहिए।

3. जैक मा के अनुसार, यदि आपकी उम्र 30 से 40 के बीच है तो अब आपको अपने लिए काम करना शुरू कर देना चाहिए। ताकि आप एक सफल उद्यमी बन सको।

4. जैक मा के अनुसार, यदि आपकी उम्र 40 से 50 के बीच है तो आप जिस कार्य में दक्ष हैं, आपको उसी पर ध्यान लगाना चाहिए।

5. जैक मा के अनुसार, यदि आपकी उम्र 50 से 60 साल के बीच है तो आपको अपने संग रहने वाले युवाओं पर भरोसा जताने की आवश्यकता है। क्योंकि अब उनमें काम करने की सामर्थ्य आपसे कहीं अधिक होती है।

जैक मा के बारे में अन्य रोचक तथ्य

1. जीवन के शुरुआती दिनों में सदैव असफलता पाने वाले जैक मा के पास आज करीब 1300 अरब रुपए की संपत्ति है।

2. जैक मा की पत्नी झांग यिंग का कहना है कि दुनिया में कई सारे ऐसे पुरुष हैं, जो देखने में काफी अच्छे लगते होंगे। लेकिन जैक मा जो काम कर सकते हैं, वह कोई पुरुष नहीं कर सकता है। बता दें कि जैक मा की तीन संतानें हैं।

3. आपको जानकर हैरानी होगी कि चीन की जो कंपनी आज दुनिया भर में प्रसिद्ध है। उसमें शुरुआती दौर में केवल 18 लोग ही कार्य किया करते थे।

4. जीवन के संघर्ष भरे दिनों में जैक मा ने अपनी बहन से रुपया उधार लेकर एक इंटरनेट कंपनी खोली थी, जोकि बाद में डूब गई थी।

5. अलीबाबा कंपनी की शुरुआत करने से पहले जैक मा एक ट्रांसलेशन कंपनी का संचालन किया करते थे। साथ ही जैक मा ने अपने अभिनय करियर के दौरान साल 2017 में एक लघु फिल्म गोंग शौ दा की थी।

जैक मा के सफल जीवन के अनमोल मंत्र

1. इंसान के पास रुपयों की कमी नहीं होती। जितनी सपने देखने संबंधी शक्ति की होती है।

2. व्यक्ति को अपने बुरे दिनों में अपने दिमाग पर भरोसा करना चाहिए ना कि अपनी ताकत पर।

3. यदि आप अपने जीवन में हार नहीं मानते हैं तो समझिए अभी आपको आगे तक जाना है। क्योंकि हार मान लेना जीवन की सबसे बड़ी असफलता है।

4. तुम यदि कोशिश ही नहीं करोगे तो तुम्हें कैसे पता लगेगा कि तुम्हारे पास कोई मौका भी है।

5. आपके पास यदि एक अच्छी टीम है तो उसमें मौजूद एक व्यक्ति ही दस पर भारी है।

6. किसी भी जगह पर कीमत देखकर प्रतियोगिता मत करो बल्कि सर्विस और इन्नोवेशन का अंदाज़ा लगाने के बाद ही मैदान में उतरो।

7. यदि आपके जीवन में शिकायतों का दौर चल रहा है। तो समझ लेना कि आपको वहां खुद को साबित करने के लिए अधिक मौके मिलने वाले हैं।

8. मैं सदैव खुद को खुश रखने की कोशिश करता हूं। क्योंकि यदि मैं खुश रहा तभी मेरे ग्राहक और सहयोगी खुश रह सकते हैं।

9. हमें सदैव अपने विपक्षियों से सीखना चाहिए लेकिन कभी उनकी नकल नहीं करनी चाहिए। अन्यथा आप हार जाओगे।

10. यदि जीवन में सफल होना चाहते हो, तो धैर्यशाली बनना पड़ेगा।

इस प्रकार हमने पढ़ा कि जैक मा को अपने जीवन में सदैव असफलता का सामना करना पड़ा। लेकिन अपने मुश्किल समय में धैर्य का परिचय देते हुए जैक मा आज दुनिया के शीर्ष व्यक्तियों की सूची में शामिल है और करोड़ों लोगों के प्रेरणास्रोत हैं।

Jack Ma Image Credit – Wikimedia


अंशिका जौहरी

मेरा नाम अंशिका जौहरी है और मैंने पत्रकारिता में स्नातकोत्तर की है। मुझे सामाजिक चेतना से जुड़े मुद्दों पर बेबाकी से लिखना और बोलना पसंद है।

Leave a Comment

You cannot copy content of this page.