लिंग बदलो – Ling Badlo in Hindi

हिंदी व्याकरण की श्रृंखला में आज हम आपके लिए लिंग (gender) की परिभाषा, प्रकार और उसमें परिवर्तन संबंधी नियम लेकर आए हैं।

हिंदी में लिंग क्या है?

व्याकरण में लिंग से तात्पर्य विभिन्न संज्ञा शब्दों में स्त्री और पुरुष जाति का निर्धारण करने से है। यानि जब किसी नाम, व्यक्ति, वस्तु या स्थान से उसकी जाति का पता लगाया जाता है, तब वहां लिंग मौजूद होता है। उदाहरण के लिए – लड़का और लड़की में लड़का (पुल्लिंग), लड़की (स्त्रीलिंग) है।


लिंग के प्रकार

हिंदी भाषा में लिंग के दो प्रकार मौजूद हैं।

  1. पुल्लिंग – जब वाक्य में प्रयुक्त संज्ञा शब्दों से पुरुष जाति के बारे में ज्ञात होता है, तब उसे पुल्लिंग कहा जाता है।

  2. स्त्रीलिंग – जिन वाक्यों में संज्ञा शब्दों से स्त्री जाति का पता लगता है, वह स्त्रीलिंग होते हैं।

संस्कृत भाषा के अनुसार, उपरोक्त के अतिरिक्त अन्य सभी निर्जीव संज्ञा शब्दों को नपुसलिंग की श्रेणी में रखा जाता है।


लिंग बदलने के नियम

हिंदी में किसी भी लिंग को दूसरे लिंग में निम्न प्रकार से बदला जाता है।

रिश्तों के आधार पर लिंग परिवर्तन नियम

पुल्लिंगस्त्रीलिंग
पितामाता
दादादादी
भाईबहन
मामामामी
मौसामौसी
चाचाचाची
ताऊताई
अंकलआंटी
बेटाबेटी
पुत्रपुत्री
लड़कालड़की
काकाकाकी
भतीजाभतीजी
भांजाभांजी
ससुरसास
फूफाबुआ
नानानानी
मित्रसहेली
पोतापोती
नातीनातिन
जेठजेठानी
सालासाली
देवरदेवरानी

जीवों के आधार पर लिंग परिवर्तन नियम

पुल्लिंगस्त्रीलिंग
गधागधी
चिड़ाचिड़िया
मोरमोरनी
हंसहंसिनी
नर मक्खीमक्खी
मच्छरमादा मच्छर
नर भेड़भेड़
सिंहसिंहनी
सांपसांपिन
भैंसाभैंस
कुत्ताकुतिया
गायबैल
बाघबाघिन
कबूतरकबूतरनी
ऊंटऊंटनी
नागनागिन
बंदरबंदरिया
शेरशेरनी
बकराबकरी
घोड़ाघोड़ी
मुर्गामुर्गी
नर लोमड़ीलोमड़ी
चूहाचुहिया
हाथीहथिनी
हिरनहिरनी
भेलभेलिनी
मेंढकमेढंकी
रीछरिछनी
कौआमादा कौआ
नर गिलहरीगिलहरी
गीदड़मादा गीदड़
गैंडामादा गैंडा
नर छिपकलीछिपकली

काम के आधार पर लिंग परिवर्तन नियम

पुल्लिंगस्त्रीलिंग
नायकनायिका
दर्जीदर्जिन
पुजारीपुजारिन
लेखकलेखिक
नेतानेत्री
मर्दऔरत
प्रधानाध्यापकप्रधानाध्यापिका
नाईनाइन
ग्वालग्वालिन
लालाललाइन
बालकबालिका
सेवकसेविका
चोरचोरनी
सौतेलासौतेली
शहजादाशहजादी
स्वामीस्वामिनी
हलवाईहलवाइन
सुधारकसुधारिका
पाठकपाठिका
हितकारीहितकारिणी
सुतसुता
पंडितपंडिताइन
धोबीधोबिन
पापीपापिन
मजदूरमजदूरनी
अभिनेताअभिनेत्री
गोपगोपिका
शिक्षकशिक्षिका
कविकवियत्री
नरमादा
बाबूबबुआइन
दूधवालादूधवाली
सेठसेठानी
मालीमालिन
नौकरनौकरानी
छात्रछात्रा
बालबाला
श्यामश्यामा
मालिकमालकिन
भगवानदेवी
नगरनगरी
राजकुमारराजकुमारी
राजारानी
बूढ़ाबुढ़िया
पतिपत्नी
आदमीऔरत
पुरुषस्त्री
धनवानधनवती
गायकगायिका
रचियतारचयित्री
शिष्यशिष्या
याचकयाचिका
श्रीमानश्रीमती
वृद्धवृद्धा
भूतभूतनी
देवदेवी
विधाताविधात्री
वनवासीवनवासिनी
दातादात्री
ब्राह्मणब्राह्मणी
नालानाली
दर्शकदर्शिका
अनुजअनुजा
सेवकसेविका
वरवधु
जाटजाटनी
दूल्हादुल्हन
अहीरअहिरनी
चौबेचौबाइन
इंद्रइंद्राणी
ठगठगिनी
कुंवाराकुंवारी
ओझाओझाइन
तपस्वीतपिस्वनी
कर्ताकत्री
ठाकुरठकुरानी या ठकुराइन
कुम्हारकुम्हारिन
गुरुगुरुआइन
अध्यक्षअध्यक्षा
अध्यापकअध्यापिका
पहाड़पहाड़ी
बादशाहबेगम
भीलभीलनी
चौधरीचौधरान
विदुरविधवा
आचार्यआचार्या
सुनारसुनारिन
ज्ञानवानज्ञानवती
शुद्रशुद्रा
पूज्यपूज्या

वस्तुओं के आधार पर लिंग परिवर्तन

पुल्लिंगस्त्रीलिंग
टोपटोपी
डिब्बाडिब्बी
गुड्डागुड़िया
लोटालुटिया

विशेषण के आधार पर लिंग परिवर्तन नियम

पुल्लिंगस्त्रीलिंग
मोटामोटी
प्रियप्रिया
अभिमानीअभिमानिनी
आयुष्मानआयुष्मति
गोरागोरी
कालाकाली
सफेदसफेदी
चंचलचंचला
मूर्खमूर्खा
पतलापतली
लंबालंबी
छोटाचोटी
बड़ाबड़ी
गूंगागूंगी
वीरवीरांगना
तेजस्वीतेजस्विनी
पुत्रवानपुत्रवती
भवदीयभवदीया
प्रियतमप्रियतमा
बलवानबलवती
बुद्धिमानबुद्धिमती

आशा करते हैं हमारे द्वारा हिंदी व्याकरण से जुड़ी उपरोक्त लिंग संबंधी जानकारी आपको अवश्य उपयोगी लगी होगी। ऐसी ही हिंदी व्याकरण से जुड़े अन्य लेख पढ़ने के लिए हमारे व्याकरण सेक्शन पर क्लिक करना न भूलें।


अंशिका जौहरी

मेरा नाम अंशिका जौहरी है और मैंने पत्रकारिता में स्नातकोत्तर किया है। मुझे सामाजिक चेतना से जुड़े मुद्दों पर बेबाकी से लिखना और बोलना पसंद है।

Leave a Comment

You cannot copy content of this page.