गुलाब के बारे में – About Rose in Hindi

Essay on Rose in Hindi

गुलाब का फूल काफी सुंदर और आकर्षक होता है। इसलिए आज हम आपके लिए essay on rose in hindi, about rose in hindi, 10 lines on rose in hindi, rose benefits in hindi और हिंदू धर्म में गुलाब का महत्व आदि विषयों पर लेख लेकर आए हैं।


About Rose in Hindi

गुलाब एक भारतीय फूल है। यह समस्त फूलों में सबसे अधिक लोकप्रिय है। जिसकी खुशबू बहुत मनमोहक होती है। गुलाब एक कांटेदार फूल है। जोकि अधिकतर कंटीली झाड़ियों में पाया जाता है। यह लाल, पीले, नीले और सफेद रंग का होता है।

इसकी सम्पूर्ण संसार में 100 से भी अधिक प्रजातियां मौजूद हैं। इसका प्रयोग मुख्य रूप से सजावट और धार्मिक आयोजनों के दौरान किया जाता है। गुलाब के फूल दो ऋतुओं में खिलते हैं। जहां सदाबहार हर मौसम में खिलता है तो वहीं चैती गुलाब केवल वसंत ऋतु में निकलते हैं।

गुलाब की पंखुड़ियां बहुत कोमल होती हैं। जिनके कई औषधिय महत्व देखने को मिलते हैं। गुलाब का फूल प्रेम और सौहार्द का प्रतीक हैं। इसलिए हर साल 7 फरवरी को गुलाब दिवस के रूप में मनाया जाता है। इसे फूलों का राजा भी कहा जाता है। इसका जीवनकाल 6-7 वर्ष तक होता है। गुलाब का वैज्ञानिक नाम रोजा है।

इससे एक खुशबूदार इत्र और गुलकंद भी तैयार किया जाता है। साथ ही गुलाब के फूल से अधिकतर गुलदस्ते और पूजा के लिए मालाएं तैयार की जाती हैं। गुलाब के फूल वही उगते हैं जहां पर्याप्त मात्रा में पानी होता है। इसका पौधा काफी छोटे आकार का होता है।

जिसे आसानी से घरों या बगीचों में लगाया जा सकता है। गुलाब को देव पुष्प भी कहा जाता है। देश में इसका सबसे अधिक प्रयोग दक्षिण भारत में किया जाता है। बच्चों के प्रिय चाचा नेहरू को भी गुलाब बहुत प्रिय है।

यह भारत के साथ-साथ यूरोप, उत्तरी अमेरिका, अफ्रीका और एशिया के कई देशों में पाया जाता है। यहां रंगों के हिसाब से गुलाब का अलग अर्थ लगाया जाता है। गुलाब की खेती जाड़ों के मौसम में की जाती है।

जहां लाल गुलाब प्रेम का, सफेद गुलाब शांति का, पीला गुलाब मित्रता का, तो वहीं गुलाबी गुलाब को खुशी का प्रतीक माना जाता है। इस प्रकार, गुलाब सुंदर होने के साथ-साथ काफी उपयोगी फूलों की श्रेणी में भी आता है।


गुलाब के फूल के उपयोग – Benefits of Rose in Hindi

गुलाब के फूल में विटामिन सी, डी, ई और ए पाया जाता है। जिसके कारण इसमें काफी सारे औषधिय गुण भी पाए जाते हैं। ऐसे में गुलाब के फूल का रस निकलकर उसमें नींबू का रस मिलाकर लगाने से दाद से छुटकारा मिल जाता है। साथ ही इसकी पंखुड़ियां चबाने से दांत और मसूड़े मजबूत रहते हैं।

गुलाब जल में सफेद चंदन मिलाकर लगाने से सिर का दर्द ठीक हो जाता है। गुलाब के फूल से डायरिया का इलाज भी संभव है। यह आपके शरीर से अधिक चर्बी को भी घटाने में भी सहायक है। इसकी पंखुड़ियों से तैयार गुलकंद का सेवन करने से आपके शरीर की गर्मी दूर होती है। और यह आपके मस्तिष्क को ठंडक प्रदान करता है।

साथ ही इससे तैयार गुलाब जल आंखों और त्वचा के लिए काफी लाभदायक है। जिन व्यक्तियों को हाथ पैरों में जलन की समस्या होती है, उनको गुलाब से बना गुलकंद खाने की सलाह दी जाती है। पुराने समय में राजाओं के राज्य में रानियां अधिकतर अपने सौंदर्य प्रसाधनों में गुलाब का इस्तेमाल करती थी।

इस प्रकार, गुलाब चेहरे की चमक को बरकरार रखने के लिए जरूरी है। इसीलिए इसे सर्वगुण संपन्न पुष्प भी कहा जाता है।


Hindu Dharm me Gulab ka Mahatva

हिंदू धर्म में देवी देवताओं की पूजा का विशेष महत्व है। जिस दौरान पूजा में देवी देवताओं की मूर्ति पर फूल अर्पित करने की परंपरा रही है। ऐसे में गुलाब का फूल काफी लोकप्रिय है। जिसकी सुगंध से सम्पूर्ण घर का वातावरण सकारात्मक हो जाता है।

और व्यक्ति के दिमाग को शांति मिलती है। गुलाब के फूल को अनेक भारतीय कवियों ने भी अपनी रचनाओं में स्थान दिया है। इसके अलावा मां दुर्गा को गुलाब का फूल चढ़ाने से आपके सौभाग्य में वृद्धि होती है।  मां सरस्वती को सफेद गुलाब चढ़ाने से वह आपसे काफी खुश रहती हैं। और माता लक्ष्मी को भी गुलाब का फूल काफी प्रिय है।

हनुमान जी को भी लाल गुलाब काफी पसंद है। कहते हैं जो भक्त उनको लाल गुलाब अर्पित करते हैं। वह उनपर सदा अपनी कृपा बनाए रखते हैं। इस प्रकार, गुलाब के फूल का हिंदू धर्म में भी एक विशेष महत्व है।


10 lines about Rose in Hindi

  1. माना जाता है कि गुलाब का फूल धरती पर 33 करोड़ साल पहले से उपस्थित है।

  2. दुनिया का सबसे प्राचीन गुलाब जर्मनी के एक चर्च में मौजूद है। जोकि वहां 815 ईसवी से है।

  3. भारत में गुलाब का सबसे बड़ा उद्यान चंडीगढ़ में स्थित है। जिसका नाम जाकिर हुसैन रोज गार्डन है। यहां लगभग 50000 गुलाब मौजूद हैं।

  4. कहा जाता है कि जब कोलंबस अमेरिका की खोज में निकले थे। तब उन्होंने गुलाब की एक शाखा से यह ही पता लगाया था कि धरती के नीचे पानी मौजूद है।

  5. आज से करीब 5000 साल पहले गुलाब की खेती शुरू की गई थी। और जांबिया गुलाब के फूलों की खेती में सबसे अव्वल देश है।

  6. गुलाबों में काले रंग का गुलाब मुख्यता तुर्की देश में पाया जाता है।

  7. ईसाइयों के पवित्र ग्रंथ बाईबल में गुलाब के फूल का महत्व दर्शाया गया है।

  8. गुलाब के फूल से इत्र बनाने का श्रेय नूरजहां को दिया जाता है।

  9. प्राचीन समय में सफेद गुलाब और लाल गुलाब दो यूरोपीय देशों का राष्ट्रीय फूल हुआ करता था।

  10. गुलाब से ही गुलाब जामुन, इत्र, गुलकंद, गुलाब जल, गुलाब शरबत, केवड़ा आदि चीजें तैयार की जाती हैं।

उम्मीद है आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा। ऐसी ही ज्ञानवर्धक जानकारी पाने के लिए हमारी वेबसाइट पर दुबारा आना ना भूलें।


अंशिका जौहरी

मेरा नाम अंशिका जौहरी है और मैंने पत्रकारिता में स्नातकोत्तर किया है। मुझे सामाजिक चेतना से जुड़े मुद्दों पर बेबाकी से लिखना और बोलना पसंद है।

Leave a Comment

You cannot copy content of this page.