Sandeep Maheshwari Quotes in Hindi – संदीप माहेश्वरी के विचार

पंखों से कुछ नहीं होता है,
हौसलों से उड़ान होती है,
मंज़िल उन्हीं को मिलती है,
जिनके सपनों में जान होती है।

उपयुक्त पंक्तियां जाने माने प्रेरक वक्ता संदीप माहेश्वरी पर स्पष्ट तौर से सिद्ध होती है। यह भारत के उन सफल उद्यमियों में गिने जाते हैं जिन्होंने बहुत ही कम समय में सफ़लता अर्जित की। संदीप माहेश्वरी एक सफल उद्यमी और प्रेरक वक्ता के तौर पर सम्पूर्ण देश में विख्यात है।

इनके द्वारा समय-समय पर युवाओं के लिए प्रेरणादायक सेमिनारों का आयोजन किया जाता रहा है और  इनके हजारों प्रेरक वीडियो मुफ्त में यूट्यूब पर प्रसारित है जोकि युवाओं को उचित मार्गदर्शन प्रदान कर रहे हैं। ऐसे में आज हम आपको संदीप माहेश्वरी के प्रेरक विचारों के बारे में बताने जा रहे है जिनसे आप भी अपने जीवन में प्रेरणा प्राप्त कर सकते हैं।

Sandeep Maheshwari Quotes in Hindi

1. जिंदगी में पैसा ठीक उसी प्रकार से महत्व रखता है जितना कि गाड़ी में पेट्रोल की मात्रा। जो ना ही कम होनी चाहिए और ना ही ज्यादा।

2. यदि व्यक्ति के पास कोई चीज़ अधिक मात्रा में है तो उसे उन लोगों के साथ बांटना चाहिए जिन्हें उसकी जरूरत हो।

3. व्यक्ति को अपनी सोच बड़ी रखनी चाहिए क्यूंकि व्यक्ति का निर्माण अपनी सोच के आधार पर होता है।

4. जीवन में सफ़लता का स्वाद बुरा अनुभव चखने के बाद ही मिलता है।

5. व्यक्ति को स्वयं की नज़रों में श्रेष्ठ होना चाहिए तभी उसे दुनिया वाले अच्छी नज़रों से देखते हैं।

6. मन में आने वाली सारी बातों को व्यक्ति को खुलकर सामने वाले से व्यक्त करना चाहिए क्योंकि यदि एक बार समय निकल गया तो फिर वह वापस नहीं आता है।

7. मनुष्य यदि संसार के सारे सुख पाना चाहता है तो उसे अपने क्षेत्र में महारथ हासिल करनी होगी।

8. सामने वाला व्यक्ति आपके बारे में क्या सोचता है उससे महत्वपूर्ण है कि आप स्वयं के बारे में क्या सोचते है।

9. मनुष्य को सफ़लता अकेले मिलती है जबकि असफलता का घूंट सबके सामने पीना पड़ता है।

10. व्यक्ति को ताकतवर इसलिए नहीं बनना चाहिए कि वह दूसरों पर अपनी शक्ति का प्रयोग कर सके बल्कि कमजोर व्यक्ति का संरक्षण कर सके।

11. व्यक्ति को खुद पर शक नहीं करना चाहिए बल्कि कड़ी मेहनत पर भरोसा रखना चाहिए।

12. जीवन में सफल होने के लिए इस बात पर ध्यान केंद्रित ना करें कि आप क्या प्राप्त कर सकते हैं बल्कि इस बात पर विचार करें कि आप क्या क्या कर सकते हैं।

13.व्यक्ति को सदा अपनी आलोचनाओं के लिए खुद को कोसते नहीं रहना चाहिए बल्कि स्वयं की उपलब्धियों के लिए खुद की प्रशंसा भी करनी चाहिए।

14. यदि किसी कार्य को करने में व्यक्ति अपना सौ प्रतिशत देता है तभी वह उसमें सफल होता है।

15. मनुष्य जब अपने जीवन में सब कुछ जानता है कि वह क्या और क्यों कर रहा है तो वह अवश्य ही सफल होता है।

16. जो व्यक्ति अपनी आदतों में सुधार कर लेता है वह कल बदल जाएगा लेकिन जिसने अपनी आदतों में सुधार नहीं किया। उसके साथ हमेशा वहीं होता रहेगा जो आज तक होता आया है।

17. इस संसार में प्यार से बड़ी कोई खुशी नहीं है।

18. जो व्यक्ति अपनी इच्छा के अनुसार कार्य करता है वह बंधन में बंधा होता है और जो प्रेम से कार्य करता है वह स्वतंत्र होता है।

19. जीवन में घटित होने वाली समस्त घटनाएं व्यक्ति के अच्छे के लिए ही होती है।

20. व्यक्ति जितना सोचता है उससे कहीं अधिक वह कर  सकता है।

21. जिस व्यक्ति ने अपनी मस्तिष्क की इन्द्रियों को वश में नहीं किया वह इस संसार में कुछ भी नहीं बदल सकता है।

22. व्यक्ति का सिर्फ अच्छा देखना, सुनना और बनना ही महत्वपूर्ण नहीं होता है बल्कि अच्छा दिखना भी जरूरी है।

23. जिंदगी की रेस में ना दौड़ना और ना रुकना है बल्कि लगातार चलते जाना है।

24. व्यक्ति को कार्य इस आधार पर कभी नहीं करना चाहिए कि उसे इसमें सफ़लता मिलेगी या असफलता। बस निरंतर कार्य करते रहना चाहिए।

25. जो व्यक्ति लड़ने की ताकत रखता है वह निश्चित ही जीत पाता है।

26. मनुष्य द्वारा की गई गलतियां उसे वह एहसास दिलाती हैं कि वह प्रयासरत है।

27. व्यक्ति को जीवन में मिली सफ़लता उसकी असफलताओं की वजह से ही संभव है।

28. दुनिया में दर्द सहना ही काफी नहीं है बल्कि दर्द को समझना भी पड़ता है तभी व्यक्ति सफल हो पाता है।

29. व्यक्ति का अटल निश्चय उसे सही पथ पर अग्रसरित करता है।।

30. जब मनुष्य किसी कार्य को बिना सोच विचार करके करता है या केवल सोचता है कोई कार्य नहीं करता है तो वह असफल ही होता है।

31. जो व्यक्ति हार और जीत दोनों ही परिस्थितयों में खुश रहता है उसे कोई नहीं हरा सकता है।

32. प्रत्येक व्यक्ति के भीतर कोई ना कोई शक्ति जरूर होती है बस आवश्यकता उसे समझने की है।

33. व्यक्ति को गिरने से कभी घबराना नहीं चाहिए बस उसे उठकर चलना अवश्य चाहिए।

34. मनुष्य जिस नजर से दुनिया को देखता है उसे दुनिया वैसी ही नजर आती है।

35. जो व्यक्ति अपने भीतर की आवाज को सुन लेता है उसे हर कार्य आसान लगता है।

36. दुनिया जब आपको पागल समझने लगे तब आप समझना कि आप सही रास्ते पर हो।

37. प्रतिदिन यदि आप इस बात पर गौर करें कि आप क्या सीख रहे हैं तो सीखना आपकी आदत बन जाएगी।

38. जब दुनिया आपकी हार का इंतज़ार कर रही हो तभी आपको सफल होना है।

39. धैर्य के दम पर व्यक्ति जिंदगी के हर कठिन फैसले का निर्णय आसानी से ले सकता है।

40. जिंदगी में आगे बढ़ना चाहते हैं या कुछ करना चाहते हैं तो सच बोलना सीखिए।

41. जिंदगी जीना है या काटना है यह व्यक्ति पर निर्भर करता है।

42. व्यक्ति को खाली नहीं बैठना चाहिए फिर चाहे उसके पास करने के लिए छोटा कार्य हो या बड़ा।

43. व्यक्ति को सीखने की प्रक्रिया पर ध्यान देना चाहिए क्योंकि धन की कमाई तो भविष्य के लिए है लेकिन सीखना हमारा वर्तमान है।

44. जो व्यक्ति किसी व्यक्ति को यह कहता कि तुम यह नहीं कर पाओगे तो वह सबसे बड़ा पाप होता है।

45. विद्यार्थी जीवन में डॉ. ए पी जे अब्दुल कलाम से बढ़कर कोई प्रेरणा नहीं है।

46. व्यक्ति को अपने जीवन में प्रेरणा सबसे लेनी चाहिए लेकिन उसे अनुसरण स्वयं का ही करना चाहिए।

47. मनुष्य को प्रत्येक कार्य जुनून के साथ करना चाहिए वरना उसे सफ़लता हासिल नहीं होती है।

48. व्यक्ति के भीतर जो प्रेरणा जलती रहती है उसे कभी कोई नहीं मार सकता है।

49. व्यक्ति के जीवन का सर्वश्रेष्ठ निर्धारण उसके माता पिता से बेहतर कोई नहीं कर सकता है।

50. जो व्यक्ति स्वयं पर हंसता है वह सदैव ही तनावमुक्त रहता है।

इस प्रकार, संदीप माहेश्वरी के प्रेरक विचार वर्तमान समय में युवाओं के जीवन में पूर्ण रूप से लागू होते हैं और युवाओं को उनके जीवन में आगे बढ़ने के लिए सकारात्मक नजरिया प्रदान करते हैं।

Featured Image Source – Sandeepmaheshwari.com


अंशिका जौहरी

मेरा नाम अंशिका जौहरी है और मैंने पत्रकारिता में स्नातकोत्तर किया है। मुझे सामाजिक चेतना से जुड़े मुद्दों पर बेबाकी से लिखना और बोलना पसंद है।

Leave a Comment

You cannot copy content of this page.