विलोम शब्द – Vilom Shabd in Hindi

विलोम का अर्थ होता है – उल्टा। इस प्रकार विलोम शब्द से तात्पर्य किसी शब्द के विपरीत अर्थ से होता है। यानि जो शब्द किसी शब्द का उलटा अर्थ व्यक्त करते हैं, वह विलोम शब्द कहलाते हैं। जैसे – रात दिन, छोटा बड़ा, ऊंचा नीचा, अमीर गरीब आदि। सम्पूर्ण वर्णमाला के आधार पर हिंदी भाषा में कई प्रकार के विलोम शब्द वर्णित हैं।

Vilom Shabd – Opposite Words in Hindi

शब्द – विलोम शब्द
अथ – इति
अज्ञ – विज्ञ
अनुकूल – प्रतिकूल
आभ्यांतर – बाह्य
अमृत – विष
अनिवार्य – ऐच्छिक
अपराधी – निरपराध
आदर – निरादर
आदर्श – यथार्थ
आकर्षण – विकर्षण
आर्य – अनार्य
आस्तिक – नास्तिक
आह्वान – विसर्जन
आय – व्यय
आयात – निर्यात
अतिथि – आतिथेय
अदोष – सदोष
अग्रज – अनुज
अनाथ – सनाथ
अल्पायु – दीर्घायु
अनुरक्ति – विरक्ति
अराग – सुराग
अल्पज्ञ – बहुज्ञ
अस्वस्थ – स्वस्थ
अगला – पिछला
अज्ञ – विज्ञ
अमावस्या – पूर्णिमा
अकाल – सुकाल
अर्थी – प्रत्यक्षी
आलोक – अंधकार
इति – अथ
इसका – उसका
इच्छा – अनिच्छा
ईश्वर – अनिश्वर
ईषत् – अलम
इहलोक – परलोक
ईद – मुहर्रम
ईश – अनिश
उत्कृष्ट – निकृष्ट
उपकार – अपकार
उपयुक्त – अनुपयुक्त
उन्नति – अवनति
उत्थान – पतन
उदय – अस्त
उत्तम – अधम
उत्कर्ष – अपकर्ष
उत्तीर्ण – अनुतीर्ण
उदय – अस्त
ऊधम – विनय
उद्घाटन – समापन
उत्साह – निरुत्साह
उचित – अनुचित
ऊधर्व – निम्न
ऊंच – नीच
उपयोग – दुरुपयोग
उपाय – निरुपाय
ऋणी – उऋण
एक – अनेक
एकल – बहुल
एकाग्र – चंचल
ऐतिहासिक – अनैतिहासिक
एकत्र – विकीर्ण
ऐहिक – पारलौकिक
औपचारिक – अनौपचारिक
ओजस्वी – निस्तेज
औचित्य – अनौचित्य
कल – आज
क्रम – व्यतिक्रम
कटु – मधुर
कीर्ति – अपकीर्ति
कृतज्ञ – कृतघ्न
कृत्रिम – अकृत्रिम
कृश – स्थूल
कर्मण्य – अकर्मण्य
क्रय – विक्रय
कलुष – निष्कलुष
कोलाहल – शांति
कड़ुवा – मीठा
क्रूर – अक्रूर
कठोर – कोमल
क्रोध – क्षमा
कार्य – अकार्य
कनीय – वरीय
ख्यात – कुख्यात
खगोल – भूगोल
खुला – बंद
खंडन – मंडन
खेद – प्रसन्नता
गुप्त – प्रकट
गुण – अवगुण
गुरु – लघु
गोचर – अगोचर
गृहस्थ – संन्यासी
गगन – पृथ्वी
गर्मी – सर्दी
गणतंत्र – राजतंत्र
ग्रस्त – मुक्त
गमन – आगमन
गरीब – अमीर
गंभीर – वाचाल
गृहीत – त्यक्त
गरल – सुधा
गेय – अगेय
गीला – सूखा
घृणा – प्रेम
घटना – बढ़ना
घन – तरल
घरेलू – बनैला
घात – प्रतिघात
जड़ – चेतन
जीवन – मृत्यु
चर – अचर
चिन्मय – जड़
चल – अचल
चोर – साधु
चेतन – अचेतन
छली – निश्चल
ज्येष्ठ – कनिष्ठ
ज्योतिर्गय – तमोमय
जल – थल
जागरण – निद्रा
जोड़ – घटाव
जीत – हार
झूठ – सच
चढ़ाव – उतार
चंचल – स्थिर
चाह – अनचाह
चतुर – मूढ़
चिर – अचिर
जन्म – मृत्यु
ज्वार – भाटा
जय – पराजय
जवानी – बुढ़ापा
जाग्रत – सुषुप्त
जाड़ा – गर्मी
जाति – कुजाति
ज्ञान – अज्ञान
झोपड़ी – महल
तामसिक – सात्विक
ताना – भरनी
तारीफ – शिकायत
तिमिर – प्रकाश
तुच्छ – महान्
तरुण – वृद्ध
थलचर – जलचर
तृष्णा – वितृष्णा
ताप – शीत
तिक्त – मधुर
तुकांत – अतुकांत
तुल – अतुल
तेजस्वी – निस्तेज
तीव्र – मंद
थोड़ा – बहुत
दानी – कृपण
दोषी – निर्दोष
दृश्य – अदृश्य
देवी – आसुरी
दुर्बल – बलवान
दयालु – निर्दय
दुरुपयोग – सदुपयोग
दुर्जन – सज्जन
धर्म – अधर्म
ध्वंस – निर्माण
धूप – छांह
धर्म – अधर्म
निरक्षर – साक्षर
निद्रा – जागरण
निर्मल – मलिन
निर्माण – ध्वंस
निर्बल – सबल
निष्काम – सकाम
नूतन – पुरातन
नित्य – अनित्य
निंदा – स्तुति
नश्वर – अनश्वर
पक्ष – विपक्ष –
पंडित – अपंडित
प्रिय – अप्रिय
प्रवृत्ति – निवृत्ति
पूर्ववर्ती – परवर्ती
पाश्चात्य – पौर्वात्य
परमार्थ – स्वार्थ
प्राचीन – नवीन
प्रत्यक्ष – परोक्ष
पुण्य – पापा
बलवान – बलहीन
बाढ़ ग्रस्त – सूखा ग्रस्त
बंधन – मोक्ष
भूत – भविष्य
भोग्य – अभोग्य
भीरु – निर्भीक
भूषण – दूषण
मुख्य – गौण
मूक – वाचाल
मौखिक – लिखित
मंगल – अमंगल
मुख – प्रतिमुख
मीठा – कड़ुवा
मिलन – विरह
मर्त्य – अमर
माता – पिता
मोक्ष – बंधन
यश – अपयश
रोगी – निरोगी
रक्षक – भक्षक
राम – रावण
रचना – विनाश
रात – दिन
रूपवान – कुरूप
राजा – रंक
रंगीन – रंगहीन
राग – विराग
लुप्त – प्रकट
लिप्त – निर्लिप्त
लाभ – हानि
लौह – स्वर्ण
लौकिक – अलौकिक
वन – मरु
विधि – निषेध
विनीत – अविनीत
विशेष – सामान्य
विधवा – सधवा
वैध – अवैध
विशालकाय – लघुकाय
वृद्धि – ह्रास
विषाद – आह्राद
वन्य – पालित
शुभ – अशुभ
शिष्ट – अशिष्ट
श्री गणेश – इति श्री
सम – विषम
सरस – नीरस
सत्य – असत्य
संधि – विग्रह
सफल – विफल
स्थावर – जंगम
सार्थक – निरर्थक
स्थायी – अस्थायी
सभ्य – असभ्य
सुकर – दुष्कर
सुगम – दुर्गम
संयोग – वियोग
साकार – निराकार
सुमति – कुमति
सुर – असुर
सरल – कठिन
संकीर्ण – विस्तृत
सुलभ – दुर्लभ
सरस – नीरस
सुबोध – दुर्बोध
सजीव – निर्जीव
समस्या – समाधान
स्थूल – सूक्ष्म
स्वाधीन – पराधीन
स्वस्थ – अस्वस्थ
सृष्टि – प्रलय
सदय – निर्दय
सदुपयोग – दुरुपयोग
सरस – नीरस
सेवक – स्वामी
स्वर्ग – नरक
हर्ष – शोक
हित – अहित
हानि – लाभ
हास – रुदन
क्षणिक – शाश्वत
ज्ञानी – अज्ञानी

उपरोक्त के अलावा भी हिंदी भाषा में सैकड़ों विलोम शब्द मौजूद हैं।


अंशिका जौहरी

मेरा नाम अंशिका जौहरी है और मैंने पत्रकारिता में स्नातकोत्तर किया है। मुझे सामाजिक चेतना से जुड़े मुद्दों पर बेबाकी से लिखना और बोलना पसंद है।

Leave a Comment

You cannot copy content of this page.