Bitcoin kya hai? बिटकॉइन की सम्पूर्ण जानकारी

आजकल हर व्यक्ति अपनी कमाई का एक हिस्सा जरूर ही भविष्य के लिए बचाकर रखता है। जिनमें से अधिकांश लोग अपनी बचत को अलग-अलग जगहों पर निवेश (investment) करके लाभ भी कमाते हैं। वर्तमान समय में निवेश की इसी दुनिया में बिटकॉइन (Bitcoin) नामक डिजिटल मुद्रा (Digital Currency) काफी प्रचलित है।

सरल शब्दों में समझने का प्रयास करें तो बिटकॉइन (Bitcoin) जिसे आभासी मुद्रा (virtual currency)  भी कहा जाता है। यह आपको नकद (Cash) तौर पर दिखाई नही देती है, लेकिन इसका प्रयोग ऑनलाइन भुगतान के रूप में किया जा सकता है।

जिस प्रकार से भारत में मुद्रा के रूप में रुपया चलन में है, जबकि विदेशों में विनिमय का साधन डॉलर है। ठीक उसी प्रकार से, आज के इस डिजिटल युग में बिटकॉइन (Bitcoin) यानि इंटरनेट की मुद्रा चलन में है। हालांकि कई देशों में इसको बैन कर दिया गया है।

लेकिन भारत समेत कई देश में इसके प्रयोग को लेकर अनेक प्रकार के नियम बनाए गए हैं। इसी के चलते आज हम अपने इस लेख के माध्यम से आपको बिटकॉइन (Bitcoin) से जुड़ी सारी महत्वपूर्ण जानकारी देने वाले हैं।

Bitcoin kya hai – What is Bitcoin in Hindi?

बिटकॉइन (Bitcoin) को साल 2009 में जापान निवासी सतोषी नाकामोटो (satoshi nakamoto) ने बनाया था। जिसे क्रिप्टो करेंसी (Crypto currency) की श्रेणी में रखा गया है। अर्थात् ऐसी मुद्रा जिसे ना देखा जा सकता है, ना छुआ जा सकता है।

लेकिन ऑनलाइन माध्यमों से इसका इस्तेमाल किया जा सकता है। बिटकॉइन (Bitcoin) में हमें मुद्रा पॉइंट्स में देखने को मिलती है, जिसे बाद में हम अपने देश की मुद्रा में परिवर्तित करवा सकते हैं।

अब प्रश्न यह उठता है कि बिटकॉइन (Bitcoin) की क्या आवश्यकता है? जैसे जैसे विज्ञान तरक्की कर रहा है, वैसे वैसे लोगों की सुविधा के लिए नित्य नए आविष्कार किए जा रहे हैं। इसी क्रम में बिटकॉइन (Bitcoin) का आविष्कार भी अंतरराष्ट्रीय और राष्ट्रीय लेनदेन में सुविधा की दृष्टि से किया गया है।

और वर्तमान में इसपर किसी भी संस्था का नियंत्रण ना होने के चलते निवेशकों को इसमें अच्छा लाभ भी प्राप्त हो रहा है। क्योंकि अंतरराष्ट्रीय चलन में होने के कारण बिटकॉइन (Bitcoin) की कीमतें दुगनी चौगनी हो रही हैं। जिससे निवेशकों की आय में बढ़ोतरी हो रही है।

आरंभ में बिटकॉइन (Bitcoin) की कीमत मात्र 5-6 रुपए थी। लेकिन जैसे जैसे इसका इस्तेमाल बढ़ा, वैसे ही इसकी कीमतों में भारी वृद्धि आंकी गई। वर्तमान में बिटकॉइन (Bitcoin) की कीमत 29 लाख के पार पहुंच गई है।

यही कारण हैं कि कई सारी लोकप्रिय कंपनियां भुगतान के रूप में ग्राहकों से जल्द ही बिटकॉइन (Bitcoin) को स्वीकार करने की दिशा में आगे बढ़ रही हैं। जिसमें uber, microsoft, twitter, Starbucks, Tesla आदि प्रमुख हैं।

हालांकि बिटकॉइन (Bitcoin) पर किसी प्रकार का कोई नियंत्रण ना होने के कारण कई लोग इसे एक धोखा भी मानते हैं। क्योंकि इससे उन्हें अपने साथ ऑनलाइन धोखाधड़ी के होने की संभावना बनी रहती है।


बिटकॉइन (Bitcoin) को क्रिप्टो करेंसी के आधार पर संचालित और क्रियान्वित किया जाता है। यह एक ऐसी मुद्रा है, जिसको प्राप्त करने और किसी को देने के लिए आपको हमेशा की तरह बैंक नहीं जाना पड़ता है। और ना ही इससे भुगतान करने के लिए आपको डेबिट या क्रेडिट कार्ड की आवश्यकता पड़ती है।

बिटकॉइन (Bitcoin) एक ऐसी मुद्रा है, जोकि डिजिटल (0 और 1) सीरीज में आपके कंप्यूटर में सेव होती है। जिसके द्वारा आपका रुपया ई-वॉलेट के माध्यम से दूसरे के ई-वॉलेट में भेज दिया जाता है। और public ledger account यानि blockchain के द्वारा यह पता लगाया जाता है कि किसी दूसरे व्यक्ति को किया गया भुगतान सफल हुआ है या नहीं।

इस प्रकार बिटकॉइन (Bitcoin) का डाटा आपके पीसी या लैपटॉप में ही हमेशा ही सेव रहता है। जिसे आप किसी भी प्रकार के अंतर्राष्ट्रीय भुगतान या निवेश के लिए प्रयोग में ला सकते हैं।


Bitcoin के फायदे क्या हैं?

आपको अक्सर लोग ये कहते दिख जाएंगे कि फलां व्यक्ति को उपरोक्त नई चीज़ पड़ गई। यानि जब कोई व्यक्ति कोई नई वस्तु खरीदकर लाता है, और इसी के साथ उसको अन्य किसी प्रकार का कोई लाभ हो जाएं। तो उसे सोने पर सुहागा माना जाता है।

कुछ ऐसा ही हम बिटकॉइन (Bitcoin) के इस्तेमाल को लेकर भी कह सकते हैं। क्योंकि जिसे इस आभासी मुद्रा का प्रयोग करके फायदा पहुंचा है, उनके लिए यह किसी वरदान से कम नही है। ऐसे में बिटकॉइन (Bitcoin) में निवेश करके इसका आर्थिक लाभ कई सारे लोगों को मिला है।

बिटकॉइन (Bitcoin) के द्वारा आप ऑनलाइन शॉपिंग और किसी प्रकार का लेन-देन भी आसानी से कर सकते हैं। इसे लेनदेन का सबसे तेज तरीका भी माना गया है। क्योंकि इसके माध्यम से लेनदेन बिना किसी बैंक में जाए और बिना डेबिट और क्रेडिट के प्रयोग से हो जाता है।

इसे आप दुनिया में कहीं भी प्रयोग कर सकते हैं। और यदि आप एक लंबा निवेश चाहते हैं, तो बिटकॉइन (Bitcoin) आपके लिए बेहतर हो सकता है। यही कारण है आज राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय कंपनियां, ऑनलाइन डेवलपर्स और नॉन प्रॉफिट संस्थाएं इसका अधिक प्रयोग कर रहे हैं।


Bitcoin इस्तेमाल करने के नुक्सान क्या हैं?

जैसा कि हमने आपको ऊपर बताया था कि बिटकॉइन (Bitcoin) पर किसी संस्था का कोई नियंत्रण नहीं है। ऐसे में इसके साथ किसी प्रकार की कोई हानि या नुकसान का जिम्मा किसी के द्वारा नहीं लिया जाता है। जिस कारण बिटकॉइन (Bitcoin) का इस्तेमाल बिना किसी रोक टोक के अवैध भुगतानों के रूप में भी किया जा सकता है।

दूसरा यह एक प्रकार की अकेंद्रिकृत मुद्रा है, जिसको बिना किसी सरकारी हस्तक्षेप के प्रयोग किया जाता है। ऐसे में बिना बिटकॉइन (Bitcoin) की जानकारी के इसमें निवेश या उपयोग करना हानियुक्त हो सकता है।

इसके साथ ही बिटकॉइन (Bitcoin) का इस्तेमाल करने वाले व्यक्ति का कोई रिकॉर्ड भी मौजूद नहीं होता है। जिस कारण इसके माध्यम से अवैध कारोबार के बढ़ने की संभावना बनी रहती है। कहीं ना कहीं इसके आभासी रूप के चलते इसके द्वारा किया जाने वाला भुगतान भी जोखिम से भरा हो सकता है।

कई मामलों में देखा गया है कि लोग जब अपने बिटकॉइन (Bitcoin) का पासवर्ड या अन्य कोई डिटेल भूल जाते हैं तो उनके बिटकॉइन (bitcoin) में किया हुए निवेश का काफी % डूब जाता है। इतना ही नहीं, कोई नियंत्रक संस्था या व्यक्ति ना होने के कारण इसके प्रयोग से आयकर और अन्य प्रकार के कर निर्धारण में भी समस्या आती है।

जिससे देश या समाज में कर चोरी पर लगाम लगाना मुश्किल हो जाता है। तो हम कह सकते हैं कि बिटकॉइन (Bitcoin) की कोई regulatory body ना होने के कारण इसमें धोखाधड़ी और जालसाजी होने का खतरा बना रहता है।


बिटकॉइन (Bitcoin) का निर्माण कैसे होता है?

बिटकॉइन (Bitcoin) जैसी डिजिटल मुद्रा को mining के द्वारा तैयार किया जाता है। जिसके लिए एक प्रकार के विशेष सॉफ्टवेयर की जरूरत होती है। और जो लोग बिटकॉइन (बिटकॉइन) mining का कार्य करते हैं, उन्हें Miners कहा जाता है।

Mining के अंतर्गत गणित व क्रिप्टोग्राफ़ी (cryptography) के मुश्किल प्रश्नों को हल करके इस तरह की मुद्रा अस्तित्व में लाई जाती है। बिटकॉइन (Bitcoin) को तैयार करने के लिए बिजली, तकनीकी ज्ञान और पूंजी की अधिक आवश्यकता पड़ती है।

दूसरी ओर, बाजार में मांग बढ़ने के कारण बिटकॉइन (Bitcoin) की कीमतों में भारी बढ़ोतरी दर्ज की गई है। ऐसे में व्यापारिक प्रतिस्पर्धा के चलते इसकी सप्लाई और उत्पादन क्षमता भी काफी उच्च प्रवृत्ति की हो गई है।

बात करें बिटकॉइन (Bitcoin) के दूसरे विकल्पों के बारे में, तो वर्तमान में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर Stellar Ripple, Crypto currencies, Ethereum आदि मौजूद हैं। लेकिन बिटकॉइन (Bitcoin) अपनी कीमतों में लगातार बढ़ोतरी के कारण अधिक प्रचलित डिजिटल मुद्रा है।


क्या आपको बिटकॉइन में निवेश करना चाहिए?

यह कुछ इस प्रकार से है कि यदि आपमें रुपयों के मामले में जोखिम लेने की क्षमता मौजूद है। तो बिटकॉइन (Bitcoin) निवेश के लिए एक अच्छा विकल्प हो सकता है। लेकिन प्रत्येक निवेश माध्यम की तरह यहां भी आपको रातों रात अमीर होने का लालच ले डूबेगा।

क्योंकि जैसा कि हमने आपको बताया कि बिटकॉइन (Bitcoin) का संरक्षण किसी के भी द्वारा नही किया जाता है। ऐसे में बिना किसी प्रतिबंध के इसमें पूंजी के निवेश के जोखिम का खतरा बना रहता है। हालांकि कई लोग और कंपनी ऐसी भी है, जिन्होंने सूझ बूझ और बाजार की परिस्थितियों के अनुरूप बिटकॉइन (Bitcoin) में निवेश करके काफी लाभ कमाया है।

इसलिए हम आपको भी अपनी क्षमता और बिटकॉइन (Bitcoin) संबंधी आवश्यक जानकारी के आधार पर ही इसमें निवेश करने की सलाह देंगे।


How to purchase bitcoin in India?

वर्तमान समय में अनेकों वेबसाइट्स और एप्स बिटकॉइन (Bitcoin) खरीदने और बेचने का कार्य करते हैं। जहां बिटकॉइन (Bitcoin) के क्रेता को यूजर अकाउंट बनाकर बिटकॉइन (bitcoin) का प्रयोग करना होता है।

इसके बाद यूजर अपने बिटकॉइन (bitcoin) के ई-वॉलेट में अपनी सारी जानकारी सेव करता है। यह बिटकॉइन (bitcoin) ई-वॉलेट एक आभासी बैंक अकाउंट की भांति होता है। जिसको संचालित करने के लिए यूजर को आईडी और पासवर्ड प्राप्त होता है।

और यदि कोई यूजर ई-वॉलेट का पासवर्ड खो देता है, तो उसके बिटकॉइन्स (Bitcoins) भी खो जाते हैं। चलिए अब हम आपको बताते चलते हैं कि आप कैसे बिटकॉइन (Bitcoin) खरीद सकते हैं?

इसके लिए सबसे पहले आपको क्रिप्टोकरेंसी (cryptocurrency) प्लेटफॉर्म्स में से किसी एक का चुनाव करना होता है। आइये इनके बारे में जानते हैं।


Best bitcoin trading apps in India

1. Zebpay (इस platform के माध्यम से आप आसानी से बिटकॉइन (Bitcoin) खरीद सकते हैं। इसकी पहुंच काफी सारे  vendors तक है, जिससे आपको बिटकॉइन (Bitcoin) खरीदते और बेचते समय फायदा होता है।

2. Unocoin (यह crypto currency exchange platform बिटकॉइन (Bitcoin) से लेनदेन के दौरान किसी प्रकार का कोई शुल्क नहीं वसूल करता है। यहां अन्य platforms के मुकाबले  बिटकॉइन (Bitcoin) सुरक्षा के अधिक विकल्प मिलते है।

3. WazirX ( यह भारत में अभी हाल ही में प्रचलित हुआ Crypto currency exchange platform है। जहां आपको बिटकॉइन (Bitcoin) से जुड़े नए features मिलेंगे।

इसके अलावा Coinsecure, Coin switch Kuber, Bitbns, CoinDCX आदि क्रिप्टो एक्सचेंज प्लेटफॉर्म्स भी मौजूद हैं।

उपरोक्त एप्स को प्ले स्टोर से डाउनलोड करने के बाद आपको इस पर अपना रजिस्ट्रेशन करना पड़ता है। जिसके लिए आपको आधार कार्ड, पैन कार्ड, बैंक अकाउंट, फोन और ईमेल एड्रेस की जरूरत होती है।

इसके बाद आप न्यूनतम 500 रुपए से लेकर अधिकतम लाखों तक का निवेश करके बिटकॉइन (Bitcoin) खरीद सकते हैं। हालांकि अपने निवेश से अधिक लाभ कमाने के लिए आपको थोड़ा इंतजार करना पड़ सकता है।

आप चाहे तो bitcoin mining के द्वारा भी बिटकॉइन (Bitcoin) हासिल कर सकते हैं। लेकिन इसके लिए अपनी high processor वाले पीसी या लैपटॉप की आवश्यकता होती है।

हालांकि बाजार में वर्तमान में केवल 21 मिलियन बिटकॉइन (Bitcoin) ही उपलब्ध हैं। क्योंकि बिटकॉइन (Bitcoin) को भी छापने की एक तय सीमा होता है, जिसके अंतर्गत ही इसका निर्गमन किया जाता है। जिन्हें आप खरीदकर लाभ कमा सकते हैं।

और अगर आप स्टॉक मार्केट की अच्छी जानकारी रखते हैं, तो आप बिटकॉइन (Bitcoin) को भली भांति समझकर इससे आर्थिक लाभ भी कमा सकते हैं। और यदि आप बिटकॉइन (Bitcoin) से प्राप्त हुए लाभ को रुपयों में बदलना चाहते हैं। तो इसके लिए आपको बिटकॉइन एक्सचेंज पर जाना होगा।

जहां आप अपने बिटकॉइन (Bitcoin) को बेचकर या उसे रुपयों में बदलकर निवेश के लाभ को अपने बैंक अकाउंट में प्राप्त कर सकते हैं। इसके अलावा आप बिटकॉइन (Bitcoin) से हुए लाभ से किसी भी ई-कॉमर्स वेबसाइट पर जाकर खरीददारी भी कर सकते हैं।

साथ ही यदि आप बिटकॉइन (Bitcoin) से जल्द लाभ कमाना चाहते हैं, तो उन्हें दूसरों को बेचकर भी ब्याज प्राप्त कर सकते हैं। या बिटकॉइन (Bitcoin) के क्षेत्र में अन्य लोगों को इसके बारे में समझाकर इस तरीके से भी लाभ कमाया जा सकता हैं।


FAQs – Bitcoin संबंधी प्रश्न

1: क्या भारत में बिटकॉइन लीगल है?

उत्तर- भारत में बिटकॉइन (Bitcoin) पूर्ण रूप से अवैधानिक नहीं है। लेकिन इसको लेकर जरूरी नियम अवश्य बनाए गए हैं। हालांकि जब क्रिप्टो करेंसी चलन में आई थी, तब भारत में इसके इस्तेमाल पर सजा का प्रावधान था।

परन्तु अब इस प्रबंध को हटाकर कुछ जरूरी नियम निर्धारित किए गए हैं। जिसके आधार पर आप भारत में भी बिटकॉइन (Bitcoin) से लेनदेन और इसमें निवेश कर सकते हैं। लेकिन भारत सरकार का कोई भी मंत्रालय बिटकॉइन (बिटकॉइन) की जिम्मेदारी नहीं लेता है और ना ही इसको नियंत्रित करता है।

साथ ही भारत में बिटकॉइन (Bitcoin) के भविष्य को लेकर कुछ स्पष्ट तौर पर नही कहा जा सकता है। क्योंकि बिटकॉइन (Bitcoin) के सही इस्तेमाल को लेकर सरकार और बैंक दोनों को ही संशय बरकरार है। लेकिन भावी भविष्य में इसपर विचार और नियम अवश्य बनाए जायेंगे।

2: क्या क्रिप्टोकरेंसी/बिटकॉइन एक अच्छा निवेश है?

उत्तर- आधुनिक समय में क्रिप्टो करेंसी में निवेश एक ट्रेंड बन चुका है। कई लोगों को हुए अधिक फायदे के चलते डिजिटल मुद्रा के तौर पर बिटकॉइन (Bitcoin) लोगों की पहली पसंद बन गई है। तो वहीं अंतरराष्ट्रीय स्तर पर चलन के कारण क्रिप्टो करेंसी/ बिटकॉइन (Bitcoin) की कीमतों में पिछले काफी समय से वृद्धि हुई है ।

जिसके कारण इसमें निवेश करना निवेशकों को काफ़ी फ़ायदा पहुंचा रहा है। बिटकॉइन (Bitcoin) की तरह ही डिजिटल बाजार में एथेरियम, ईओएस, लाइटकाइन, डोजकॉइन आदि क्रिप्टो करेंसी मौजूद हैं। जोकि भावी निवेश को और अधिक मजबूती प्रदान करता है।

3.बिटकॉइन नेटवर्क को कौन नियंत्रित करता है?

उत्तर- जितना कि वर्तमान समय के परिदृश्य को देखकर कहा जा सकता है, इस समय बिटकॉइन (Bitcoin) पर किसी का नियंत्रण नहीं है। वह पूर्ण तरीके से स्वतंत्र होकर क्रियाशील है। जिसे व्यक्ति बिना किसी दलाल और तीसरे पक्ष के हस्तक्षेप के स्वयं ही नियंत्रित और संचालित करता है।

दूसरा, बिटकॉइन (Bitcoin) को पूर्ण रूप से अभी किसी भी देश ने अपनी आधिकारिक मुद्रा नहीं बनाया है। केवल लिबरलैंड एक ऐसा देश है, जहां बिटकॉइन (Bitcoin) को आधिकारिक अधिकार प्राप्त हैं। ऐसे में अभी किसी भी देश या संस्था द्वारा इसका जिम्मा नही लिया गया है, केवल इसको प्रयोग करने हेतु गाइडलाइंस जारी की गई हैं।

4.आपको bitcoin में कितना निवेश करना चाहिए?

उत्तर- जैसा कि हम आपको अपने लेख में बता चुके हैं कि यदि आप जोखिम वहन करने की क्षमता रखते हैं तो आपके लिए बिटकॉइन (Bitcoin) मुनाफे का सौदा हो सकता है। लेकिन खुदरा निवेशकों के लिए बिटकॉइन (Bitcoin) का इस्तेमाल ठीक नही है।

उन्हें इससे लाभ होने की संभावना कम रहती है। दूसरा यदि आप वास्तव में बिटकॉइन (Bitcoin) में निवेश की पहल करना चाहते हैं, तो अवश्य ही आपको एक छोटी राशि से निवेश प्रारंभ करना चाहिए। इस तरह से आप एक तो बिटकॉइन (Bitcoin) में लेनदेन और उससे जुड़ी तमाम प्रक्रियाओं से रूबरू भी हो जाएंगे और आप उसमें अपनी क्षमतानुसार निवेश भी कर सकेंगे।

क्योंकि उससे अधिक निवेश करके आप केवल अपना नुकसान ही करेंगे। इसलिए बिना अधिक जानकारी और अधिक पूंजी के बिटकॉइन (Bitcoin) में निवेश करना किसी खतरे से खाली नहीं है। इसलिए एक निश्चित सीमा तक इसमें निवेश रखना आपके लिए बेहतर विकल्प हो सकता है।

आशा करते हैं कि आपको हमारे द्वारा दी गई यह जानकारी अवश्य पसंद आई होगी। ऐसे ही अन्य तकनीकी और ज्ञानवर्धक जानकारी पाने के लिए हमें फॉलो करना ना भूलें।


अंशिका जौहरी

मेरा नाम अंशिका जौहरी है और मैंने पत्रकारिता में स्नातकोत्तर किया है। मुझे सामाजिक चेतना से जुड़े मुद्दों पर बेबाकी से लिखना और बोलना पसंद है।

Leave a Comment

You cannot copy content of this page.