जानिए क्या है Blockchain टेक्नोलॉजी | Blockchain in Hindi

blockchain technology

What is Blockchain Technology in Hindi?

अभी तक फिलहाल Bitcoin बहुत समय तक सुर्खियों में रहा है। सभी लोगों में बिटकॉइन को लेकर बहुत उम्मीद जागी थी, क्योंकि बिटकॉइन की कीमत दिन पर दिन बढ़ती ही जा रही है। लेकिन आप को बता दें कि यदि आप बिटकॉइन के विषय में जानते हैं तो आपको Blockchain

टेक्नोलॉजी के बारे में जानना भी जरूरी है। ये आपको जरूर पसंद आएगी क्योंकि बिटकॉइन का संबंध Blockchain से है इसलिए आपको इसके बारे में जानना भी आवश्यक है। अभी तक Blockchain टेक्नोलॉजी को लेकर सभी लोगों में बहुत उम्मीद उत्पन्न हुई थी।

उन्हें ऐसा लगा था कि ये हमारे आगे भविष्य में आने वाली टेक्नोलॉजी को पूरी तरह बदल सकता है। हालांकि ये बात काफी हद तक उचित भी है। लेकिन इसके लिए हमें Blockchain टेक्नोलॉजी को पूरी तरह समझने की आवश्यकता है, तब जाकर हमें इस टेक्नोलॉजी के बारे में हर एक बात समझ आयेगी और हम उचित तरह से इसका उपयोग कर पाएंगे। 

फिलहाल Blockchain को ठीक तरह से ना जान पाने के कारण लोगों में अभी इसे अपनाने की गति बहुत धीमी है। लेकिन टेक्नॉलॉजी एक्सपर्ट ऐसा मानते हैं कि आगे आने वाले भविष्य में इसकी गति धीरे-धीरे तेज होगी। ये हमारे लिए एक बहुत अच्छी खबर है। भविष्य में ये टेक्नोलॉजी पूरी दुनिया को बदलने वाली है। 

क्या है Blockchain टेक्नोलॉजी? (What is Blockchain Technology)

Blockchain टेक्नोलॉजी का उल्लेख यदि सबसे सरल रूप में करें तो ये एक विकेंद्रीकृत, वितरित खाता बही के रूप में परिभाषित किया जाता है, जो कि एक डिजिटल संपत्ति के विकास को रिकॉर्ड करता है। यदि आसान भाषा में कहा जाए तो ये सिर्फ डिजिटल करेंसी ही नहीं बल्कि किसी भी चीज को डिजिटल बनाकर उसका रिकॉर्ड सुरक्षित रखता है।

Blockchain पर किसी भी डेटा को में सुधार नहीं किया जा सकता है इसीलिए इसका इस्तेमाल भुगतान साइबर सुरक्षा और स्वास्थ्य सेवा जैसे उद्योगों के लिए ही किया जा सकता है। 

Blockchain टेक्नोलॉजी के विषय में अधिक जानकारी के लिए हम आपको बता दें कि ये एक ऐसी टेक्नोलॉजी है जिससे बिटकॉइन और अन्य क्रिप्टो- करेंसियों को संचालित किया जाता है। यदि इसे और भी अधिक सरल भाषा में समझाया जाए तो ये एक डिजिटल सार्वजनिक बहीखाता है, जिसमें हर एक लेनदेन का पूरा हिसाब-किताब दर्ज किया जाता है। 

Bitcoin kya hai? बिटकॉइन की सम्पूर्ण जानकारी

Blockchain टेक्नोलॉजी का आविष्कार सन् 2008 में सतोषी नकमोटो ने किया था। उनका उद्देश्य इसे क्रिप्टो-करेंसी बिटकॉइन में, उसके पब्लिक ट्रांजेक्शन लेजर के हिसाब से कर सकें। इससे लोगों को उनके कमाये गए पैसों को नियंत्रित करने की क्षमता देता है।

जिससे कोई भी तीसरा व्यक्ति या कोई भी सरकारी संस्था भी इन पैसों तक अपना हाथ न पहुंचा सके। हालांकि बहुत से लोगों का ऐसा मानना है कि सतोषी नकामोटा नाम का कोई भी व्यक्ति मौजूद ही नहीं है। ये सब कुछ बस एक काल्पनिक चरित्र है। लेकिन इसकी बात की सत्यता को लेकर किसी के भी पास उचित जानकारी नहीं है।

Blockchain टेक्नोलॉजी के बारे में जानना क्यों जरूरी है।

Blockchain टेक्नोलॉजी को हमे सार्वजनिक रूप से मौजूद करने की कोई जरूरत नहीं होती है। ये निजी तौर पर भी कार्य कर सकता है, जहां पर नोड्स केवल साधारण नंबर होंगे किसी एक प्राइवेट नेटवर्क में और Blockchain एक डिस्ट्रीब्यूटर लेजर की तरह काम करेगा। 

Blockchain टेक्नोलॉजी की पकड़ फाइनेंश से भी अधिक है इसे किसी भी मल्टीस्टेप ट्रांसेक्शन जहां पता लगाने की क्षमता और दिखावे की जरूरत है वहां इसे अप्लाई किया जा सकता है। सप्लाई चैन एक ऐसा नॉटेबल केस है जहां के ब्लॉकचेन का इस्तेमाल अधिक डेटा को मैनेज करने के लिए और हस्ताक्षर किये गए कॉन्ट्रैक्ट, उत्पाद उत्पति के हिसाब किताब करने के लिए किया जाता है।

All about Blockchain in Hindi

Blockchain Technology in Hindi video ( Apna College )


क्या ये Blockchain टेक्नोलॉजी सुरक्षित है?

वैसे तो आपको बता दें कि आजकल इंटरनेट पर कोई भी चीज सुरक्षित नहीं है। उसी जगह अगर हम बात Blockchain टेक्नोलॉजी की करें तो बाकी सभी टेक्नोलॉजी की तुलना में ये बहुत हद तक अचूक है। ब्लॉकचेन में कोई भी ट्रांजैक्शन करने के लिए पूरे नेटवर्क के सभी नोड्स को सहमत होना पड़ेगा, तभी जाकर कहीं वो ट्रांजैक्शन मान्य होगी। 

यहां कोई एकल इकाई भी ऐसा नहीं कह सकती है कि ट्रांजैक्शन हुआ है या नहीं। इसीलिए इसे हैक करने के लिए हैकर को बैंक के जैसे केवल एक सिस्टम को ही नहीं बल्कि पूरे नेटवर्क में स्थित सभी सिस्टम को हैक करना होगा। इसलिए इस Blockchain टेक्नोलॉजी को हैक करना इतना आसान नहीं है। 

Blockchain इतना विशाल, ग्लोबल डिस्ट्रीब्यूटर लेजर और डेटाबेस है, जोकि लाखों डिवाइसों में लगातार चल रहा है और ये सभी के लिए खुला है। यहां पर न केवल जानकारी बल्कि कोई भी चीज जिस की कुछ कीमत है जैसे कि पैसा, उपाधि, व्यवसाय, पहचान यहां तक की वोटों की भी जानकारी मिलती है। यहाँ इन्हें स्थानांतरित, सुरक्षित और निजी तौर पर पूर्ण सुरक्षा के साथ व्यवस्थित किया जा सकता है। 

हम ऐसा कह सकते हैं कि Blockchain टेक्नोलॉजी हमसे ही बनी हुई है, हमारे लिए ही काम करती है और इसे नियंत्रित भी हम ही लोग करते हैं। ये बात ही इसे और भी बहुत अधिक सुरक्षित बनाता है। 

भविष्य में Blockchain टेक्नोलॉजी की निम्न क्षेत्रों में बढ़त

Smart Contracts: चाहे कोई भी उद्योग हो यदि वो बहुत अधिक कॉन्ट्रैक्ट पर निर्भर करता है जैसे कि इंश्योरेंस, फाइनेंशियल इंस्टिट्यूशन, लॉ आदि इन सभी इंडस्ट्रीज को इस टेक्नोलॉजी से बहुत अधिक फायदा होगा।

Supply Chain Management: जब भी कोई मूल्य बदलता है या कोई संपत्ति की स्थिति को बदलता है तब इस पूरी प्रक्रिया को व्यवस्थित करने के लिए ब्लॉकचेन एक बहुत ही अच्छा विकल्प है । 

Asset Protection: यदि आप किसी प्रॉपर्टी मालिक हो और अपनी निजी संपत्ति अपनी मेहनत की कमाई की सुरक्षिता चाहते हैं तो ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी आपकी बहुत मदद कर सकता है। आपकी रियल टाइम ओनरशिप की एक निर्विवाद रिकॉर्ड बनाकर। 

Payment Processing: ब्लॉकचेन की ये बहुत बड़ी खासियत है कि वो किसी भी बड़ी कंपनी की पेमेंट प्रोसेसिंग को बहुत ही आसानी से संभाल सकता है। ये इंटरमीडियरीज की जरूरतों को पूरी तरह से खत्म कर सकता है जिन्हें कि हम पेमेंट प्रोसेसिंग में अक्सर देखते हैं। 

अब तो ये बात तो आपको समझ आ ही गई होगी कि Blockchain की उपयोगिता क्या है और ये किस प्रकार हमारे सभी कार्यों में लग सकता है। इस जानकारी को लेकर जो भी हमारी सोच है उसे इसने बदल कर रख दिया है। किस प्रकार और कहां-कहां पर जानकारी को एकत्रित किया जा सकता है।

कौन इस जानकारी को एक्सेस कर सकता है और हम क्या कर सकते हैं। इससे ये बात तो साफ है कि ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी को लोग इतनी आसानी से अपनाने या ग्रहण करने वाले नहीं और ये टेक्नोलॉजी रातों-रात तो आने वाली है नहीं क्योंकि ये हर प्रकार से ट्रेडिशनल टेक्नोलॉजी को चुनौती देती है।

यहां भी पढ़ें:

Leave a New Comment