Internet Kya Hai – What is Internet in Hindi?

अपने दाएँ देखिए या बाएँ देखिए, आपको कोई ना कोई ऐसी वस्तु ज़रूर नजर आ जाएगी जो किसी ना किसी प्रकार में internet से जुड़ी होगी। आज के ‘smart‘ चीजों के समय में बहुत मुश्किल से ही ऐसा व्यक्ति मिलेगा जिसको internet के बारे में कोई जानकारी ना हो। आधुनिक युग में यदि कोई ऐसी चीज़ है जिसके रुक जाने से सारी दुनिया रुक सकती है, तो वो internet है। इसलिए आज हम जानेंगे – internet kya hai के बारे में।

परिभाषा – Internet Kya hai

Wikipedia की परिभाषा अनुसार चलें तो internet वो network है जो बहुत सारे networks को मिला के बनता है। यह networks का एक ऐसा जाल है जिसके द्वारा विश्व भर के computer systems connected हैं और data exchange कर सकते हैं।


Internet connections

अब जब इस field में इतनी तरक्की हो चुकी है तो users के पास विभिन्न विकल्प हैं जिनसे वो अपने device internet साथ connect कर सकते हैं, इन में से कुछ तरीकों के बारे में विस्तार में समझते हैं। मुख्य रूप से यह सारे connections के साधन 2 groups में बांटे जा सकते हैं– wired और wireless.

1. Wired

Internet kya hai - Wired
Internet Kya Hai – Wired

यह इंटरनेट से जुड़ने की सबसे पुरानी तकनीकें हैं। इसमें आप अपने device को किसी cable यानी तार से जोड़ कर internet से connect कर सकते हैं। इसके कुछ मुख्य प्रकार यह होते हैं–

  • Dial up connection: जब आम घरों में internet की शुरुआत हुई थी, वो इसी प्रकार के connection से हुई थी। Landline Telephone की तार के ज़रिए internet connection दिया जाता था।

    फिर उसको एक modem नाम के उपकरण से जोड़ा जाता है, जो analog signals को digital में परिवर्तित करता है। इस प्रकार के connection की speed कम होती है और कभी कभी landline में कुछ गड़बड़ होने की वजह से slow हो सकता है। 

  • Cable: Cable से यहां हमारा तत्पर्य है TV cable। इस प्रकार का connection TV की तारों द्वारा दिया जाता है। इस तार को आप अपने computer या laptop साथ जोड़ कर उस पर internet का उपयोग कर सकते हैं।

2. Wireless

Internet kya hai - Wifi
Internet Kya hai – Wireless

इस तकनीक के आविष्कार से ही internet घर घर तक पहुंचा है। यह connectivity का वही प्रकार है जिसने हमारी रोज़ाना ज़िंदगी इतनी सरल बना दी है। इसके मुख्य प्रकार निम्लिखित हैं–

  • WiFi – इसका पूरा नाम होता है wireless fidelity. नाम से ही पता चलता है कि इसमें connection देने के लिए किसी प्रकार की cable यानी तार का उपयोग नहीं किया जाता। घर में एक modem लगाकर आप घर के किसी कोने से भी इसे access कर सकते हैं। बढ़ती demand और तरक्की की वजह से इसका coverage area भी बढ़ता जा रहा है और नई companies एक दूसरे से मुकाबला करने के लिए users बेहतर से बेहतर स्पीड का connection दे रही हैं। 

  • Cellular यानी mobile data – यह वही connection है जिसके लिए हम अपने mobile bill के साथ recharge करवा सकते हैं। यह हमारे cell phones पर चलने वाली विभिन्न telecom companies द्वारा दी गई सुविधा है। अपनी ज़रूरत के हिसाब से हम अपनी मर्ज़ी की speed वाले data प्लान का चुनाव कर सकते हैं। 


Internet Ka Avishkar Kisne Kiya Tha

इंटरनेट के आविष्कार या उसे बनाने का श्रेय किसी एक व्यक्ति को नही दिया जा सकता है। बल्कि विश्व भर के कई सारे वैज्ञानिकों और तकनीकी ज्ञान में कुशल व्यक्तियों को दिया जाता है। इंटरनेट जोकि सम्पूर्ण विश्व के कंप्यूटर नेटवर्क को एक दूसरे से जोड़ने का काम करता है।

इसके बिना अब मानव जीवन की कल्पना असंभव है। साल 1961 में इंटरनेट का विचार लियोनार्ड क्लेरॉक ने दुनिया को दिया था। इसके बाद सन् 1962 में licklinder, kleinrock और robert talyor ने ARPANET को विकसित किया।

तो हम कह सकते हैं कि संचार के माध्यमों से जुड़े दूरगामी परिणामों को संभव करने के लिए 1960 के दशक में अमेरिका के कैलिफोर्निया में इंटरनेट की खोज की गई थी। फिर वर्ष 1968 में इंटरफेस मैसेज प्रोफेसर (IMP) तैयार किया गया।

और 1970 आते आते इंटरनेट से जनता का परिचय हो गया। इसके बाद इंटरनेट की सुलभता के लिए उसे अनेक प्रयोगों से उसे वर्तमान अस्तित्व में लाया गया है। जिसमें आज TCP, IP, ISP, modem, HTML, WWW, JAWA आदि के माध्यम से इंटरनेट के इस्तेमाल को प्रत्येक व्यक्ति के लिए सरल बना दिया गया है।

ऐसे में कहा जा सकता है कि vinton cerf व Robert kahn नाम के वैज्ञानिकों को इंटरनेट के अविष्कारकों के रूप में जाना जाता है।


History of Internet in Hindi

इंटरनेट दुनिया का सबसे वृहद नेटवर्क है, जोकि web server के माध्यम से एक कंप्यूटर नेटवर्क को दूसरे से जोड़ता है। बात की जाएं इसके इतिहास के बारे में, तो वर्ष 1957 में द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान अमेरिका में एक agency की स्थापना की गई थी।

जिसका नाम Advanced Research Projects Agency यानि (ARPA) था। जहां एक कंप्यूटर को दूसरे कंप्यूटर के साथ जोड़ने की तकनीक विकसित की गई। इसी तकनीक को वर्ष 1969 में ARPANET के नाम से जाना जाने लगा।

आरंभ में इस तकनीक को केवल युद्ध और रक्षा संबंधी कार्यों में गोपनीयता के साथ इस्तेमाल किया जाता था। फिर साल 1980 तक यह तकनीक Internet के नाम से प्रसिद्ध हो गई। जिसमें सुधार का श्रेय vinton cerf व Robert kahn द्वारा बनाए गए TCP और IP protocol के आविष्कार को दिया जाता है।

जिससे इंटरनेट के आविष्कार को सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में एक क्रांति माना जाने लगा। वर्ष 1980 में एक NSFNET नाम से एक नेटवर्क स्थापित किया गया। जिसके द्वारा कई हाई स्पीड कंप्यूटरों को एकसाथ जोड़ा गया। वहीं से इंटरनेट वास्तविक रूप से चलन में आया।

और वर्ष 1990 में हुई WWW के आविष्कार ने इंटरनेट को और अधिक प्रचलित कर दिया था। भारत में साल 1995 के आसपास इंटरनेट का इस्तेमाल बड़े बड़े शिक्षण और सरकारी संस्थानों द्वारा सर्वप्रथम किया गया। इस प्रकार, वर्तमान में इंटरनेट सूचनाओं के आदान प्रदान का एक महत्वपूर्ण जरिया बन गया है।


इंटरनेट का मालिक कौन है? Internet ka malik kaun hai

इंटरनेट पर किसी एक व्यक्ति का नियंत्रण नहीं है। उसे जो व्यक्ति प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से इस्तेमाल करता है, असल में वही उसका मालिक कहलाता है। ऐसे में हम कह सकते हैं कि इंटरनेट पर किसी संस्था, सरकार और व्यक्ति का अधिकार नहीं होता है ।

बल्कि इसे निश्चित नियमों और सिद्धातों के आधार पर क्रियान्वित किया जाता है। जोकि एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति तक इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर के माध्यम से पहुंचता है।


इंटरनेट का उपयोग – Advantage of internet in hindi

आइये अब देखते हैं कुछ advantages of internet or use of internet in hindi-

  • Business: विश्व भर में विभिन्न व्यापारियों को internet से बहुत लाभ हुए है। Internet के माध्यम से एक देश के व्यापारी दूसरे देशों के ग्राहकों को भी अपने goods और services बेच सकते हैं।

    International trade के अलावा internet ने प्रचार करने की क्रिया को भी बहुत सरल बना दिया है। Internet द्वारा किए गए प्रचार एक ही पल में सैकड़ों लोगों को aware कर सकता है। बड़ी बड़ी रकम की transactions भी सरलता से online की जा सकती हैं। 

  • Daily lives: हमारी निजी ज़िंदगी में देखें तो internet ने अनगिनत चीज़ों में अपनी जगह बनाई हुई है। छोटी सी गूगल search से लेकर रसोई में नई recipes ढूंढने तक internet की ही सयाहता लेते हैं। 

  • Tourism: यदि आप किसी यात्रा पर जाना चाहते हैं तो उस पर्यटक स्थल के बारे में internet पर hi सर्च करेंगें। जगह final करने के बाद इंटरनेट द्वारा विभिन्न travel sites के माध्यम से  ही आप online tickets बुक करवा सकते हैं।

    Hotel की भी booking आप online करवा सकते हैं। इस तरह से internet ने tourism industry को बहुत बढ़ावा दिया है। 

  • Shopping: यदि आप महिला हैं तो इस कॉलम से खूब सहमत होंगे की e-shopping ने shopping को बहुत मज़ेदार और सुविधा-पूर्वक कर दिया है। आप घर बैठे बैठे ही जूते, कपड़े, रसोई का समान, cosmetics, आदि कुछ भी order कर सकते हैं। और तो और पेमेंट का भुगतान भी online ही किया जा सकता है। 

  • Entertainment: इस सेक्टर की बढ़ोतरी से तो हम सब जानकर ही हैं। हम अपना खाली समय youtube पर videos देख कर मनोरंजन कर सकते हैं। इसके अतिरिक्त हम कहानियां और कविताएं पढ़ सकते हैं, फिल्में देख सकते हैं, आदि। ऐसी sites की बढ़ती मशहोरी से इनकी आमदनी में बहुत बढ़ावा हो रहा है। 

  • Healthcare: इस फ़ील्ड की कामयाबी ने death rate बहुत घटा दिया है। किसी भी प्रकार की health emergency हो तो आप तुरंत ही बड़े से बड़े डॉक्टर को संपर्क कर सकते हैं। छोटी या बड़ी तकलीफ़ के लिए health experts के साथ video कॉल पराइवेटाइजेशन भी संपर्क करके consult कर सकते हैं। इसके अतिरिक्त विभिन्न दवाइयों की जानकारी भी आपको google पर मिल सकती है। 

  • Education: Distance learning और online assignments जैसी चीजों ने education क्षेत्र की बिलकुल बदल के रख दिया है। बच्चे घर बैठे ही सबसे बेहतरीन अध्यापकों से शिक्षा ले सकते हैं। कक्षा के सिलेबस के अलावा भी extra कोर्स करके अपनी जानकारी बढ़ा सकते हैं। 

  • Communication: वो ज़माने तो गायब हो चुके हैं जब किसी से बात करने के लिए दो दिन चिट्ठी का इंतजार करना पड़ता था। अब कुछ seconds में ही आप अपना message भेज कर दुनिया में किसी से भी संपर्क कर सकते हैं। Calls करना तो बिल्कुल मुफ्त हो गया है। Professional कार्यों के लिए भी 24×7 email की सुविधा उपलब्ध है। 

  • Social media: Whatsapp, फेसबुक, instagram, snapchat इतियादी बहुत लोगों के ज़िंदगी का मुख्य भाग ही बन गए हैं। इन sites द्वारा एक ही समय पे बहुत लोगों से जुड़ा जा सकता है। मनोरंजन के अलावा इन प्लैटफॉर्म्स को आज कल business का प्रचार करने के लिए भी खूब उपयोग किया जा रहा है।

  • Others: इन मुख्य क्षेत्रों के अलावा भी बहुत सारी छोटी छोटी चीजों में इंटरनेट ने अपनी पक्की जगह बना ली hai। GPS की सुविधा, तस्वीरें एवम् videos चंद्द seconds में भेजने का विकल्प, आदि सब इंटरनेट की बदौलत ही है। 


Disadvantage of internet in hindi

दुनिया को पूर्णतः बदलने के साथ साथ internet की बढ़ती usage से कुछ समस्याएं भी खड़ी हो रही हैं। 

  • Cyber crimes: यह term उन गुनाहों को संकेत करती हैं जो internet द्वारा किए जाते हैं। बहुत सारे banking frauds हर वक़्त खबरों में नज़र आते हैं। Financial घपलों के अलावा plagiarism और hacking भी cyber crimes की लिस्ट में शामिल है।

    Plagiarism यानी content की चोरी या नकल करना भी एक जुर्म ही माना जाता है। Hacking द्वारा hackers हमारी निजी जानकारी ले सकते हैं, जैसे credit card की details, हमारे passwords, आदि। यह सब जुर्म internet के दुरुपयोग को खतरनाक बना देते हैं।

  • Distraction: जुर्म के अलावा भी इंटरनेट का यह एक negative पहलू है। Misuse के साथ साथ overuse भी गलत माना जाता है। बहुत सारे लोग अपने काम छोड़ कर youtube या social media आदि जैसे platforms को overuse करके अपना समय बर्बाद करते हैं। Internet पर खेली जाने वाली online games यानी video games भी distraction बन जाती हैं। 

  • Impact on children: छोटे बच्चों के हाथ में internet देना तो बहुत ज़िम्मेदारी का काम है। वो उसका सदुपयोग या दुरुपयोग नहीं जानते। वो जिस प्रकार की चीजें internet पर देखेंगे, उनका दिमाग उसी ओर जायेगा। ज़्यादा वीडियो games भी उनको पढ़ाई से भटका सकती हैं।  

  • Impact on health: Internet ने हमारी ज़िदगी सब कार्य online करके आराम-पूर्वक तो बना दी है मगर इसका हमारी स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव पड़ता है। सारे कार्य घर बैठे buttons दबाने से हो जाते हैं और physical गतिविधियाँ बहुत कम हो गई हैं। मनोरंजन के लिए भी हम अपने कमरे में बैठकर ही movies देखना पसंद करते हैं, लोगों की तरजीह और lifestyle ही बदल गया है। 


Conclusion 

Internet एक बहुत बड़ा हथियार है जिसका सदुपयोग करना अति अनिवार्य है वरना लाभ से ज़्यादा इसकी हानियों से हमें भारी नुक़सान हो सकता है। परंतु इसके विपरीत यदि हम इसे बहुत ध्यान से उपयोग करें तो मानव-जाति एवं पूरे विश्व की हर क्षेत्र में भरपूर तरक्की हो सकती है।

आशा करते हैं कि आपको हमारा यह आर्टिकल – “Internet Kya hai” पसंद आया होगा।


निष्ठा विज

निष्ठा विज एक लेखिका है जो डिजिटल मार्केटिंग और फैशन से सम्बन्धित विषयों पर लिखने में अत्यंत आवेशपूर्ण है। वह एक छोटे शहर के व्यापारी परिवार से है और लेखन में ही अपना व्यवसाय बनाना चाहती है।

1 thought on “Internet Kya Hai – What is Internet in Hindi?”

Leave a Comment

You cannot copy content of this page.