Utthan ka Vilom Shabd – उत्थान का विलोम शब्द

अगर कभी आपसे परीक्षा के दौरान उत्थान का विलोम शब्द पूछा जाता है। और आप उसका विलोम यानि विपरीत शब्द नही जानते हैं तो आज हम आपको उत्थान का विलोम शब्द बताने जा रहे हैं।

उत्थान का अर्थ (Utthan ka Arth)

उत्थान हिंदी भाषा का शब्द है। जिसका अर्थ ऊपर उठने या प्रगति करने आदि से लगाया जाता है। यानि यदि आप किसी कार्य में सफलता प्राप्त करते हैं, तो अक्सर आपसे कहा जाता है कि आप जीवन में उत्थान की ओर बढ़ रहे हैं। इस प्रकार, उत्थान व्यक्ति के जीवन में सफलता पाने की निशानी होती है। सामान्यता, उत्थान से तात्पर्य व्यक्ति के जीवन में ऊपर उठने से लगाया जाता है।


उत्थान का विलोम शब्द (Utthan ka Vilom Shabd)

जैसा कि हमने आपको बताया कि उत्थान से आशय व्यक्ति के जीवन में ऊपर उठने से होता है। ऐसे में उत्थान (utthan) का विलोम शब्द पतन (patan) होता है। जिसका मतलब नीचे गिरने से लगाया जाता है। बात की जाए अंग्रेजी में उत्थान (uplift) का विलोम शब्द पतन (descend) होता है।


पतन का अर्थ (Patan ka Arth)

जब व्यक्ति किसी कार्य में लाख कोशिशों के बावजूद सफल नही हो पाता है, तो कहा जाता है कि उसका पतन निश्चित है। तो वही यदि कोई व्यक्ति बुरी आदतों या संगति में रहता है। तब ऐसे व्यक्ति का भी पतन निश्चित है। पतन एक तरीके से व्यक्ति के चारित्रिक और सामाजिक जीवन पर ग्रहण लगा देता है। और व्यक्ति स्वयं को कमजोर समझने लग जाता है। पतन हिंदी भाषा का एक नकारात्मक शब्द है, जिसका अर्थ प्राय: गिरने या नष्ट होने से लगाया जाता है।


उत्थान और पतन से निर्मित वाक्य (Utthan aur Patan ka Vakya me Prayog)

  1. मैं तुम्हारे भविष्य के उत्थान की कामना करता हूं।

  2. मोहन की जैसी संगति है। उसे देखकर ऐसा लगता है कि उसका पतन जल्दी हो जाएगा।

  3. जब व्यक्ति किसी कार्य को पूरी लगन के साथ करता है, तो वह जिंदगी में उत्थान तक पहुंच ही जाता है।

  4. जो व्यक्ति बुरी आदतों के चंगुल में फंस जाता है, उसका पतन निश्चित होता है।

  5. अगर तुम जीवन में ईमानदारी से कार्य करोगे तो अवश्य ही उत्थान पाओगे। अन्यथा काल तुम्हारा पतन जरूर कर देगा।

  6. एक उत्थान का, दूसरा पतन का।

  7. अपने मन में उसने ऐसी शाक्ति, ऐसे विकास, ऐसे उत्थान का अनुभव कभी न किया था।

  8. राजा राममोहन राय नारी उत्थान के समर्थक थे।

  9. आंगनबाड़ी की सेविका-सहायिका राष्ट्र व समाज के उत्थान में महत्वपूर्ण योगदान कर रही है।

  10. अकबर के समय में मुगल वंश का उत्थान अपने चरमोत्कर्ष पर था।


उम्मीद करते हैं कि आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा। यदि हां तो हमारे पेज को लाइक और शेयर करना ना भूलें।


अंशिका जौहरी

मेरा नाम अंशिका जौहरी है और मैंने पत्रकारिता में स्नातकोत्तर किया है। मुझे सामाजिक चेतना से जुड़े मुद्दों पर बेबाकी से लिखना और बोलना पसंद है।

Leave a Comment

You cannot copy content of this page.