एक अच्छा blog कैसे लिखें?

अपने talent से लेखक कोई भी बन सकता है परन्तु हर लेखक सफल blogger नहीं बन सकता। Internet पर अपनी पहचान बनाना तो दूर, केवल search engine की नज़र में आना ही बड़ी बात होती है। गूगल पर कुछ सर्च करें तो एक ही विषय पर अनगिनत search results आ जाते हैं। अपने blog को दूसरों से अलग करने के लिए कुछ qualities होनी अनिवार्य है। इनमें से कुछ tips नीचे दिए गए हैं–

1. अच्छे से research करें

चाहे आपको blog के विषय के बारे में कितनी भी जानकारी हो, कभी भी सीधा लिखना शुरू ना करें। सबसे पहले उस विषय पर अच्छे से रिसर्च करें। हो सकता है जो जानकारी आपके दिमाग में हो, वो गलत जो या पुरानी हो। Research करने से जानकारी में बढ़ाई भी होता है और जो चीजें आपको already पता है, उनके बारे में updates भी मिलते हैं। बेशक research करने पर यही निष्कर्ष निकले की आपकी जानकारी सही थी, फिर भी यह time waste नहीं कहलाएगा। Research के लिए internet पर सर्च कर सकते हैं, किताबें तथा अखबारों में से जानकारी एकत्र कर सकते हैं, ज़रूरत पड़े तो आस पास के लोगों के विचार भी सुन सकते हैं। 

2. पहले Rough draft बनाएं

Final content लिखने से पहले rough draft ज़रूर बनाए। इसमें संक्षेप में सारे points लिख लें, जिनका जिक्र आप अपने फाइनल content में करना चाहते हैं। Final post design करने से पहले draft को अच्छे से चैक करें। ग़लतियों में सुधार करें और यदि कुछ छूट गया हो तो उसे सही जगह पर add करें। कोई गलती ना भी निकले तो भी check करके पुष्टि करना लाभदायक ही होगा। 

3. आकर्षक headings और subheadings दें

किसी भी content का शीर्षक ही होता है जो पाठकों को उसे पढ़ने के लिए आकर्षित करता है। चाहे वो किसी किताब का नाम हो, या किसी कहानी का शीर्षक हो, यदि वो unique और catchy ना हो तो आपका content बहुत अच्छा होने के बावजूद आप ज़्यादा पाठकों को नहीं आकर्षित के पाएंगे। शीर्षक का तरीका catchy होने के साथ साथ यह भी अनिवार्य हैं कि उन्ही शब्दों का चुनाव किया जाए जो उस विषय को अच्छे से समझा सकें। 

4. Introduction और conclusion का paragraph ज़रूर लिखें

विषय कुछ भी ही, कभी भी सीधा facts और महत्वपूर्ण जानकारी से शुरुआत ना करें। एक छोटा सा हिस्सा भूमिका यानी introduction को ज़रूर दें। यह ध्यान रखें की यदि introduction interesting होगी तभी पाठक बाकी content पड़ेंगे वरना बिना पढ़े ही बन्द कर सकते हैं। इस भूमिका में कुछ ऐसा लिखें जिस से पाठक खुद को relate कर सकें। यदि विषय या विषय से जुड़ी कोई महत्वपूर्ण परिभाषाएं हो, वो भी इसमें लिख सकते हैं। 

भूमिका के अलावा सारांश लिखना भी उतना ही अनिवार्य है। इसके बिना सारा article अधूरा लगता है। चाहे 3-4 पंक्तियां ही लिखें मगर सारांश वाले para में सारे content का निचोड़ होना चाहिए। 

5. Repetition ना करें

यह बात तो किसी भी प्रकार की अच्छी writing का आधार है। केवल content की length बढ़ाने के लिए कभी भी एक ही बात बार-बार ना लिखें। बेशक article में शब्द कम हों, परंतु एक ही point को repeat ना करें। यह क्रिया content को boring बनाती है और author का immature impression बनता है। 

6. Content unique रखें

Plagiarism के लिए बहुत बड़ी ना है। कोई भी विषय हो, कोई भी platform हो, content की नकल करना किसी जुर्म से कम नहीं है। यदि google को आपकी नकल के बारे ei पता चल जाए तो वो इसकी सजा भी से सकता है, और SERP पर आपका rank भी बहुत नीचे जा सकता है। कभी भी content की नकल ना kren। चाहे आपके पास कम जानकारी हो, उस में ही blog लिखें, या खुद रिसर्च करें। Content बढ़ाने के लिए नकल करने से केवल नुक़सान ही होगा। 

7. शब्दों की पसंद का ध्यान रखें

आप अपने विचार प्रकट करने के लिए जिन शब्दों का प्रयोग करते हैं, यानी आपकी vocabulary भी बहुत प्रभाव डालती है। एक ही बात को कहने के विभिन्न तरीके हो सकते हैं, सही तरीके और शब्दों का उपयोग करना बहुत ज़रूरी है। पाठकों को प्रभावित करने के लिए ज़्यादा मुश्किल शब्द या बहुत भारी vocabulary का प्रयोग ना करें। सम्भावना होती है कि आपके audience के काफी हिस्से को कठिन शब्दों का अर्थ समझने में मुश्किल हो और परिणाम स्वरूप वो आपका blog बिना समझें ही छोड़ कर चले जाएं। इसलिए हमेशा आम भाषा में ही बात करें, जी सबको समझ आए। Content अच्छा होना चाहिए, शब्दों की कठिनता बाद में आती है। यदि आपको लगता है कि आपकी audience को technical jagron समझ में आता है, तो फिर कोई दिक्कत नहीं है। 

8. Interactive style में लिखें

Blog पढ़ते समय पाठक को ऐसा लगना चाहिए कि लेखक उनसे निजी तौर पर बात कर रहा है। ऐसा करने से blog बिलकुल boring नहीं लगता और पाठकों का interest बना रहता है। 

9. उदाहरणों का प्रयोग करें

यह तो एक सिद्ध किया हुआ fact है कि पाठ से ज़्यादा उदाहरण से concept समझ आता है। उदाहरण आपके content को समझने में आसान बनाने के साथ दिलचस्प भी बनाते हैं। इसलिए जहां संभव हो सके, वहां उदाहरण देकर अपने विचार समझाएं।

10. Media add करें

बचपन की पढ़ाई याद करें तो हम सबको बिना तस्वीरों वाली किताबें पढ़ना बिलकुल अच्छा नहीं लगता था। अपने content को दिलचस्प बनाने के लिए videos, तस्वीरें, diagrams, charts आदि ज़रूर add करें। 


On-Page SEO

उपर दिए गए सुझाव अपना कर blog लिखने के बाद उसको Search Engine के लिए optimise करना भी बहुत अनिवार्य है। SEO एक ऐसी क्रिया है जिसके द्वारा हम अपनी site या ब्लॉग को search engine के results page पर ऊँचे दर्जे पर दिखा सकते हैं। इसकी विस्तार में जानकारी के लिए हमारे पास अलग से पूर्णतः हिंदी में ही SEO कोर्स भी है। यहां पर केवल संक्षेप में on-page seo की कुछ तकनीकें देख लेते हैं—

  • Page title: शीर्षक की महत्ता के बारे में हमने chapter के शुरू वाले हिस्से में भी पढ़ा। यह उन शब्दों का समूह होना चाहिए जो आपके content को अच्छे से describe करते हैं। इसमें सही keywords का होना बहुत महत्वपूर्ण है, मगर सिर्फ traffic खींचने के लिए वो keywords बिलकुल ना लिखें, जो आपके content में नहीं हैं। यह गूगल और users दोनों को धोखा देनी वाली बात होगी।

  • Meta description: result page पर नीले रंग में दिए गए page शीर्षक के नीचे कुछ पंक्तियां site के बारे में भी दी गई होती हैं। इसी भाग को meta description कहते हैं। यह डिस्क्रिप्शन लिखते समय अपनी website की qualities लिख सकते hain और कोशिश करें कि को पेज title के keywords हैं, वो description में firse use हो सकें। इससे ranking में भी फायदा होगा और ज़्यादा users भी attract होंगे। इसमें स्पेशल characters का उपयोग कम से कम करें।

  • Header tags: आप इस बात से जागरूक होंगे कि कोडिंग करते समय विभिन्न size के heading उपलब्ध होते हैं। H1 tag से आप सबसे बड़ी size की heading लिख सकते हैं। इसलिए H1 में सबसे उपर वाली heading होनी चाहिए जो आपके सारे content का highlight हो। यह बात ध्यान में रखे कि H1 tag में एक ही heading हो, एक से ज़्यादा होने पर google confuse हो जाएगा और आपको ज़्यादा ऊंचा rank नहीं देगा। H1 के बाद H2 का ही प्रयोग करें, कोई level बीच में से skip मत करें और इसी क्रम में चलते रहें। हो सके तो headings में उपयुक्त keywords का भी प्रयोग करें। 

  • Media optimization: हमने content में media यानी videos, तस्वीरें, आदि की importance से जागरूक हैं। मगर केवल तस्वीर लगा देने से हमारा कार्य ख़तम नहीं हो जाता। इसके विपरीत केवल तस्वीर लगाने से आपकी site की loading speed कम हो सकती है, जो SEO के लिए negative factor है। इसलिए media add करने के बाद उसको optimise करना बहुत ज़रूरी है। जब भी हम अपने content में कोई तस्वीर लगाते हैं तो उस तस्वीर को upload करने के लिए coding में Alternate tag का उपयोग करना पड़ता है और इस tag में उस तस्वीर के बारे में description लिखनी होती है। इस बात का ध्यान रखें कि उस description में अपने मुख्य विषय से जुड़े हुए शब्द या कोई keyword ही लिखें ताकि google के लिए वो समझना आसान हो जाए। 

सारांश

इन tips को अपने articles और posts में implement करके देखें, आपको स्वयं ही सुधार दिखेगा। Practice करते रहें, अनुभव के साथ स्वयं श्रेष्ठता आ जाती है। और SEO की विस्तार में जानकारी के लिए आप हमारे free SEO कोर्स को refer कर सकते हैं।


2 thoughts on “एक अच्छा blog कैसे लिखें?”

  1. Ye Kiya baat hui ki bar bar repeat na kre log kehte hai ki jo tumhara keyword hai wo apke article mai jaroor ana chaiye bar bar

    Reply
    • “केवल content की length बढ़ाने के लिए कभी भी एक ही बात बार-बार ना लिखें।” – यहाँ हम कीवर्ड repetition की नहीं अपने कंटेंट की length बढ़ाने के लिए same चीज़ को बार-बार ना लिखने की बात कर रहें हैं।

      Reply

Leave a Comment

You cannot copy content of this page.