पर्यायवाची शब्द | Paryayvachi Shabd in Hindi- Synonyms in Hindi

Paryayvachi Shabd

पर्यायवाची शब्द क्या होते हैं?

पर्यायवाची शब्द का संधि विच्छेद करने पर पर्याय + वाची निकलकर आता है, जिसका अर्थ होता है समान बोले जाने वाले शब्द। दूसरे शब्दों में, जिस शब्द के समान अर्थ में कई सारे शब्द मौजूद होते हैं वह पर्यायवाची शब्द कहलाते हैं। इस प्रकार जब कोई भाषा उन्नत अवस्था में होती है तब उसमें एक ही अर्थ के कई सारे शब्द होते हैं। जैसे – रवि, दिनकर,  भानु, अर्क, दिवाकर आदि सूर्य के पर्यायवाची शब्द हैं। इसी प्रकार कई शब्दों के समान अर्थ वाले शब्द निम्न है।

Paryayvachi Shabd in Hindi

अमृत – सुधा, पीयूष, सोम, अमी
अग्नि – अनल, पावक, वहि्र, हुताशन, कृशानु
अर्थ – आशय, अभिप्राय, प्रयोजन
अधम – पतित, भ्रष्ट, नीच, निकष्ट, तुच्छ
अपमान – अनादर, अवज्ञा, तिरस्कार, अवहेलना
अभिमान – गर्व, दर्प, दंभ, अहंकार
अतिथि – अभ्यागत, आगंतुक, प्राधुणिक
असुर – राक्षस, दैत्य, दानव, निशाचर
अन्न – शास्य, धान्य
आकाश – अम्बर, व्योम, गगन, नभ, अंतरिक्ष
आंख – नयन, नेत्र, चक्षु, अक्षि, दृग, लोचन
आनंद – हर्ष, उल्लास, मोद, आह्हाद, सुख, प्रसन्नता
आज्ञा – आदेश, निदेश, निर्देश, अनुशासन
अंग – अंश, अवयव, हिस्सा, भाग
अंधकार – तम, तिमिर, ध्वाँत
अन्वेषण – अनुसंधान, खोज, गवेषण, जांच, छानबीन, पूछताछ, शोध
अमृत – सोम, सुधा, अमिय, पीयूष, मधु, अमी, सुरभोग
इच्छा – अभिलाषा, कामना, लालसा, मनोरथ, आकांक्षा
इंद्र – सुरेश, सुरेन्द्र, देवराज, देवेन्द्र, सुरपति, शक
ईश्वर – परमात्मा, परमेश्वर, प्रभु, जगदीश, भगवान, ईश
इंद्राणी – इंद्रवधु, इंद्राणी, मधवानी, शची, शतावरी, पोलोमी
उक्ति – कथन, वचन, सूक्ति
उद्देश्य – लक्ष्य,ध्येय
उद्योग – उद्यम, यत्न, प्रयत्न, परिश्रम, प्रयास
उन्नति – विकास, उत्थान, उत्कर्ष, अभ्युदय, प्रगति
उग्र – प्रचंड, उत्कट, तेज, महादेव, तीव्र, विकट
उजाड़ – जंगल, बियावान, वन
उत्पत्ति – उद्गम, पैदाइश, जन्म, उद्भव, सृष्टि, आविर्भाव, उदय
उपाय – युक्ति, साधन, तरकीब, तदबीर, यत्न, प्रयत्न
ऋषि – मुनि, साधु, यती, संन्यासी, तपस्वी
ऐक्य – एकत्व, एका, एकता, मेल
ऐश्वर्य – समृद्धि, विभूति
ओज – तेज, शक्ति, बल, वीर्य
औचक – अचानक, यकायक, सहसा
औरत – स्त्री, जोरू, घरनी, घरवाली
कपड़ा – चीर, बसन, पट, अम्बर, वस्त्र
कुबेर – अनद, यक्षराज, धनाधिप, किन्नरेश, राजराज
कार्तिकेय – कुमार, षडानन, शरभव, स्कन्द
कमल – पंकज, सरोज, नीरज, पद्म, अंबुज, कंज, जलज, अरविंद
कामदेव – मदन, मनोज, कंदर्प, अनंग, मन्मथ, मनसिज, पंचवाण
कल्याण – शुभ, मंगल, शिव, श्रेय, क्षेम
किरण – रश्मि, कर अंशु, मरीचि
क्रोध – कोप, रोष, आकोष, आवेश, मन्यु, अमर्ष
खग – विहग, विहंग, पक्षी, द्विज, चिड़िया, पंछी, शकुनि, पखेरू
खंभा – स्तूप, स्तंभ, खंभ
खल – दुर्जन, दुष्ट, धूर्त, कुटिल
गंगा – भागीरथी, जाह्नवी, सुरसरिता, देवनदी, त्रिपथगा, मंदाकिनी
गणेश – गणपति, गजानन, एकदंत, विनायक, लम्बोदर, विध्नेश्वर
गुरु – शिक्षक, अध्यापक, आचार्य, उपाध्याय
गाय – गौ, धेनु, सुरभि
गेह – भवन, सदन, घर, मंदिर, निकेतन, आवास, निवास
घट – घड़ा, कलश, कुंभ, निप
घर – गृह, भवन, सदन, निकेत, निकेतन, आलय, निलय, मंदिर, धाम
घोड़ा – घोटक, अश्व, तुरंग, वाजि
घास – तृण, दूर्वा, दूब, कुश, शाद
चतुर – कुशल, प्रवीण, पटु, निपुण, विज्ञ, दक्ष, नागर
चंद्रमा – सोम, शशि, विधु, इंदु, मयंक, शशांक, राकेश, सुधाकर
चांदनी – चंद्रिका, ज्योत्स्ना, कौमुदी
चमक – कांति, ज्योति, आभा, द्युति, दीप्ति, प्रकाश
चोर – खनक, दस्यु, साहसिक, रजनीचर, मोषक
छतरी – छत्र, छाता, छत्ता
छली – छलिया, कपटी, धोखेबाज
छटा – शोभा, छवि, सुंदरता, सौंदर्य, सुषमा
जल – नीर, उदक, वारि, पय, सलिल, तोय, अंबू, जीवन
जंगल – विपिन, कानन, अरण्य, वन
जानकी – सीता, वैदेही, जनकसुता, जनकतनया, जनकत्मजा
झरना – उत्स, स्त्रोत, प्रापत, निर्झर, प्रस्त्रवण
झूठ – असत्य, मिथ्या, अयथार्थ, अनृत
टक्कर – मुठभेड़, लड़ाई, मुकाबला
टांग – पांव, पैर, टंक
टोना – टोटका, जादू, यंत्र मंत्र, लटका
तलवार – करवाल, खड्ग, खंग, असि, कृपाण, चन्द्र हास
तालाब – सर, सरोवर, तड़ाग, हृद्, जलाशय
दया – कृपा, अनुग्रह, अनुकम्पा, करुणा
दास – सेवक, अनुचर, भृत्य, किंकर, परिचर
दिन – दिवस, वार, वासर, दिवा, अह्, अह
दुष्ट – दुर्जन, खल, शठ, धूर्त, कुटिल
दुख – पीड़ा, व्यथा, वेदना, कष्ट, कलेश, विषाद, संताप, यातना
हाथ – हस्त, पाणि
हाथी – हस्ती, गज, द्विप, करी, नाग, कुंजर, मतंग, द्विरद, दंती
दूध – दुग्ध, पय, क्षीर
देवता – देव, सुर, अमर, विबुध, निर्जर
देह – शरीर, तनु, वपु, गात्र, काया, कलेवर
धन – द्रव्य, अर्थ, वित्त, संपत्ति, संपदा, द्रविण, लक्ष्मी
धनी – धनवान, संपन्न, श्रीमान, लक्ष्मीवान, धनपति
नदी – सरिता, सरि, तटिनी, तरंगिनी, स्त्रोतस्विनी
पति – नाथ, स्वामी, कांत, वल्लभ, आर्य पुत्र
पक्षी – विहग, विहंग, खग, परिंदा, द्विज
बंदर – कपि, मर्कट, कीश, बानर, हरि, शाखा मृग
भौंरा – मधुप, मधुकर, द्विरेप, अलि, भृंग
मेघ – घन, बादल, वारिद, नीरद, पयोद, जलधर, वारिधर
मुनि – यती, अवधूत, संन्यासी, वैरागी, संत
यम – सूर्य पुत्र, जिवितेश, श्राद्धदेव, कृतांत, धर्मराज, किनाश
रक्त – खून, लहू, रुधिर, शोनित, लोहित
रमा – इंदिरा, हरिप्रिया, श्री, लक्ष्मी, कमला, पदमा, समुंद्रजा
विष्णु – माधव, केशव, गोविंद, उपेन्द्र, दामोदर
शुभ्र – गौर, श्वेत, अमल, वलक्ष, धवल, शुक्ल, अवदात
समूह – झुंड, दल, समुदाय, टोली, मंडली, गण
हस्त – हाथ, कर, पाणि, बाहु, भुजा
होंठ – अधर, ओंठ, ओष्ठ
हृदय – उर, छाती, वक्ष, हिय

उपरोक्त के अलावा हिंदी भाषा में कई प्रकार के पर्यायवाची शब्द उल्लेखित है।

यहां भी पढ़ें:


अंशिका जौहरी

मेरा नाम अंशिका जौहरी है और मैंने पत्रकारिता में स्नातकोत्तर किया है। मुझे सामाजिक चेतना से जुड़े मुद्दों पर बेबाकी से लिखना और बोलना पसंद है।

Leave a Comment

Leave a Comment