Independence Day Slogan In Hindi | स्वतंत्रता दिवस के लिए प्रमुख नारे

slogan on independence day

जैसा की हम सभी जानते हैं हमारा देश 15 अगस्त सन 1947 को आजाद हुआ था। अंग्रेजों के द्वारा कई वर्षों की गुलामी और अत्याचार के पश्चात हमारे देश के स्वतंत्रता सेनानियों के कठोर परिश्रम, संघर्ष, और त्याग के बाद हमारा भारत देश आजाद हुआ है।

ये दिन प्रत्येक भारतवासी के लिए गर्व का दिन है। हम सभी स्वतंत्रता दिवस को अपने अपने स्कूलों, कॉलेजों, और दफ्तरों आदि में बहुत ही धूमधाम से मनाते हैं। जब भी कोई खुशी का पर्व हो और नारेबाजी ना की जाए तो वो समा कुछ फीका फीका सा लगता है।

इसी तरह स्वतंत्रता दिवस वाले दिन सभी लोग अपने वीर जवानों का बलिदान और भारत देश की शान को याद करते हुए नारेबाजी करते हैं। नारेबाजी करने से हमारे आसपास उपस्थित प्रत्येक जन में ऊर्जा का संचार होता है। नारे वे होते हैं, जो हमारे भीतर एक अलग ही प्रकार की ऊर्जा और देशभक्ति की भावना को जागृत करते हैं। जिससे कि हमारा मनोबल और हौसला बढ़ता है।

तो आइए देश भक्ति और वीर जवानों के त्याग से भरे कुछ नारों को जानते हैं और अपने स्कूल आदि में उनका उपयोग करते हैं

▪️वंदे मातरम

▪️आजादी का यह दिन है वीर शहीदों को नमन है

▪️स्वतंत्रता दिवस का शुभ दिन है आया, अपने साथ ढेर सारी खुशियां लाया

▪️भारत है हमको जान से प्यारा, पूरे विश्व में सबसे प्यारा देश हमारा

कर लो राष्ट्र की भक्ति, तभी ये देश बनेगा विश्व शक्ति

▪️दे सलामी इस तिरंगे को, जिससे तेरी शान है। सर हमेशा ऊंचा रखना इसका, जब तक दिल में जान है

▪️सिर झुका के उन शहीदों को है मेरा नमन, जिनके लिए खुद जान से ज्यादा था प्यारा उनका वतन

▪️हम न भूले उनको जिन्होंने प्राण गवाया है, उनकी खातिर ही स्वतंत्रता दिवस का पर्व ये आया है

▪️उन वीरों पर देश आज कर रहा है गर्व, जिनकी वीरता की देन है ये स्वतंत्रता का पर्व

▪️ये तिरंगा और इसकी शान, हमेशा याद दिलाएगा हमें उनका बलिदान

इंकलाब का नारा है, भारत देश हमारा है

▪️ढूंढ लो आसमां ढूंढ लो ये ज़मीं, देश भारत के जैसा कहीं भी नहीं।

▪️झेला जिन्होंने दुश्मन का प्रहार, है देश उन्हीं का कर्जदार

▪️गांधी सुभाष और भगत सिंह, हैं आजादी के अमर चिन्ह

▪️जिन वीरों पर हमको गर्व है, स्वतंत्रता उन्हीं का पर्व है

▪️हम सब ने आज ये ठाना है, आजादी को अमर बनाना है

▪️चाहे भगवान अल्लाह हो या रब मेरा, जां से भी मुझको प्यारा है भारत मेरा

▪️है भारत से हम सबको प्यार, स्वतंत्रता हमारा है अधिकार

▪️भारत है हम सबका अभिमान, है विश्व में इसका ऊंचा नाम

▪️नीला, केसरिया, धानी, सफेद, ये रंग मिटाते सारे भेद

▪️पगड़ी, टोपी, धोती का वेश, सब पहने है ये भारत देश

▪️स्वतंत्रता दिवस पर हम कसम खाएंगे, स्वतंत्र भारत को स्वच्छ बनाएंगे

▪️लहराएंगे तिरंगा राष्ट्रगान गाएंगे, हम स्वतंत्रता दिवस का ये पर्व मनाएंगे

▪️दुश्मन की गोलियों का वो हंस के सामना किए, आजाद ही मरे वो जो आजाद थे जिए

▪️हमारी स्वतंत्रता में उनका बलिदान है, ऐ भारत मां वो वीर तेरी और तू मेरी शान है

▪️इंकलाब जिंदाबाद बोल के, दुश्मनों से भिड़ गए वो सर पे कफन ओढ़ के

▪️उन वीरों के बलिदानों को व्यर्थ न जाने देंगे, कसम खाते हैं भारत मां पर आंच ना आने देंगे

▪️आजादी की ज्वाला अंत तक जलती रही, भारत मां अपने वीर पुत्रों के लहू से रंगती रही

▪️भारत की आजादी हम नहीं गवांएंगे, ये सोने की चिड़िया थी इसे वही फिर से बनाएंगे

▪️प्यार से गले लगा के भाईचारा बढ़ाएंगे, कुछ इस तरह हम स्वतंत्रता का पर्व मनाएंगे

▪️कहां हर कोई ऐसा सम्मान पाता है, वो किस्मत वाला है जिसका लहू वतन के काम आता है

▪️ना जाने कितने कुर्बान हुए हर पल हर क्षण में, तब कहीं स्वतंत्रता का पर्व ये आया हमारे जीवन में 

▪️जिस देश के उत्तर में है हिमालय और बीच में गंगा, ऐ दुश्मन तू कभी भूल कर भी उस देश से ना लेना पंगा

▪️है किसी में हिम्मत जो भारत से टकराएगा, जान दे देंगे हम अपनी पर तिरंगा सदा लहराएगा

भगत सिंह के विचार

▪️जब-जब देश पर संकट आया, मां भारती की सेवा में आजादी के मतवालों ने अपना शीश नवाया

▪️भारत मां की इज्जत को हम नीलाम नहीं होने देंगे, कसम खाते हैं स्वतंत्रता की हम शाम नहीं होने देंगे

▪️दोस्तों इस स्वतंत्रता की कीमत बहुत बड़ी है, क्योंकि अनगिनत क्रांतिकारियों के कुर्बानियों पे इसकी नींव पड़ी है

▪️प्रण लेते हैं आज हम स्वतंत्रता के पर्व पर, भाईचारा और सौहार्द के साथ तिरंगा लहराएंगे नभ पर

▪️हिंदू मुस्लिम सिख इसाई अगर हो जाए एक साथ, तो भारत पर बुरी नजर डालें ऐसी दुश्मन की कहां औकात

▪️हसरत यही है दिल में कि काश ऐसा एक दिन आए, जब मेरे लहु का एक कतरा भी मेरे देश के काम आए

▪️आजादी के परवाने थे वो नहीं था उनमें कोई लोभ, हंसते हंसते झूले फंदों पर नहीं था उनको कोई शोक

▪️दोस्तों स्वतंत्रता की ये यात्रा कभी न रुकने पाए, कुछ भी हो जाये पर तिरंगा कभी न झुकने पाए

▪️देश के लिए ना जाने कितनों ने शीश कटाए हैं, वो आजादी के मतवाले कभी मंगल पांडे तो कभी भगत सिंह बन कर आए हैं

▪️सारी दुनिया सो रही थी तब भारत में हुआ था नया सवेरा, 15 अगस्त का दिन था वो जब आजाद हुआ था भारत मेरा

▪️जब जब पुकारती है मां भारती तब तब स्वतंत्रता के बलि वेदी पर वीरों ने दी है आहुति

▪️ना भूलो तुम जलियांवाला बाग ना भूलो तुम चौरी चौरा, इस स्वतंत्रता दिवस पर याद करो उनको जिन्होंने देश के लिए न्योछावर कर दिया अपना जीवन पूरा 

▪️तुम ना भूलो उनको जिन्होंने देश के लिए है लहू बहाया, क्योंकि उनकी ही बदौलत आजादी का ये दिन है आया

▪️हमारा भारत विविद है, पर सबके दिलों में निहित है

▪️जब मुश्किल में हो वतन तो तुम फरियाद न करना, ऐसे मौकों पर कभी बिस्मिल तो कभी आजाद बनकर लड़ना

▪️आजादी के मतवाले थे अपने हाल पर वो कभी न रोए, ना जाने कितनी रातों तक इस आजादी के लिए ना वो सोये

तो देखा आपने कैसे ये देशभक्ति वाले नारे हमें भी अंदर से प्रोत्साहित और आनंदित कर देते हैं। ये हमें भी अंदर से वो जज्बात, वो हौसला देते हैं कि हम भी अपने देश के लिए कुछ कर गुजर जाएं। ये देशभक्ति के नारे हमें उन सभी वीर जवानों की याद दिलाते हैं, जिन्होंने इस देश की स्वतंत्रता के लिए अपने प्राण तक न्योछावर कर दिए। मैं हमारे भारत देश पर गर्व है।

जय हिंद जय भारत!

निबंध लेखन – Nibandh Lekhan

Featured image: Marathilatestly

Leave a New Comment