Sumitranandan Pant Biography | सुमित्रा नंदन पंत का जीवन परिचय

Sumitranandan Pant

सुमित्रानंदन पंत (Sumitranandan Pant) (20 मई 1900 – 28 दिसंबर 1977) एक भारतीय कवि थे। वह हिंदी भाषा के सबसे प्रसिद्ध 20वीं सदी के कवियों में से एक थे और अपनी कविताओं में रूमानियत के लिए जाने जाते थे जो प्रकृति, लोगों और भीतर की सुंदरता से प्रेरित थे।

सुमित्रा नंदन पंत का जन्म, Birth of Sumitranandan Pant

सुमित्रा नंदन पंत का जन्म उत्तर प्रदेश के अल्मोड़ा जिले के कौसानी गांव में २० मई १९०० को हुआ था । इनके जन्म  के पश्चात ही इनकी माता का देहांत होगया था।  इनका पालन पोषण इनके पिता तथा दादी ने किया । इनके पिता का नाम गंगदत्त पंत था । यह अपने पिता की आठवीं संतान थे। सुमित्रा नानं पंत का वास्तविक नाम “गोसाई दत्त” था। इन्होने अपना नाम बदल कर सुमित्रानंदन पंत रख लिया।

सुमित्रा नंदन पंत का शुरुवाती जीवन

उनके पिता एक स्थानीय चाय बागान के प्रबंधक के रूप में कार्यरत थे, और एक जमींदार भी थे, इसलिए पंत को कभी भी आर्थिक रूप से बड़ा होना नहीं था। वह उसी गाँव में पले-बढ़े और ग्रामीण भारत की सुंदरता और स्वाद के लिए हमेशा प्यार करते थे, जो उनके सभी प्रमुख कार्यों में स्पष्ट है।

पंत ने 1918 में बनारस के क्वींस कॉलेज में दाखिला लिया। वहां उन्होंने सरोजिनी नायडू और रवींद्रनाथ टैगोर के साथ-साथ अंग्रेजी रूमानी कवियों की कृतियों को पढ़ना शुरू किया। 1919 में वह मुइर कॉलेज में पढ़ने के लिए इलाहाबाद चले गए। 

उन्होंने 1926 में पल्लव को प्रकाशित करते हुए कविता पर अधिक ध्यान केंद्रित किया। इस संग्रह ने उन्हें हिंदी पुनर्जागरण के एक साहित्यिक दिग्गज के रूप में स्थापित किया, जिसकी शुरुआत जयशंकर प्रसाद ने की थी। 

सुमित्रानंदन पंत 1931 में कलाकणकर चले गए। नौ साल तक उन्होंने प्रकृति के करीब एकांत जीवन व्यतीत किया। इसके साथ ही वह कार्ल मार्क्स और महात्मा गांधी के कार्यों और सोच के प्रति आसक्त हो गयीं, उन्होंने इस समय के दौरान उनके द्वारा बनाई गई कविता में कई छंदों को समर्पित किया।

पंत 1941 में अल्मोड़ा लौट आए जहां उन्होंने उदय शंकर सांस्कृतिक केंद्र में नाटक कक्षाओं में भाग लिया। उन्होंने अरबिंदो की द लाइफ डिवाइन भी पढ़ी, जिसने उन्हें बहुत प्रभावित किया। तीन साल बाद वे मद्रास और फिर पांडिचेरी चले गए, अरबिंदो के आश्रम में भाग लिया। 1946 में वे देश के अन्य प्रमुख लेखकों में अपनी भूमिका फिर से शुरू करने के लिए इलाहाबाद लौट आये।

सुमित्रा नंदन पंत का साहित्यिक कैरियर, Career of Sumitranandan Pant

उन्हें हिंदी साहित्य के छायावादी स्कूल की प्रमुख कवयित्री में से एक माना जाता है। वह ज्यादातर संस्कृतकृत हिंदी में लिखते थे। पंत ने कविता, पद्य नाटकों और निबंधों सहित अट्ठाईस प्रकाशित रचनाएँ लिखीं। इनके अलावा, पंत ने प्रगतिशील, समाजवादी, मानवतावादी कविताएँ और दार्शनिक कविताएँ भी लिखीं। वे अंततः इस शैली से आगे निकल गए। 

पंत जी में सबसे शक्तिशाली बात यह है कि, शेली की तरह, वह अपनी रचना को कई उपमाओं और रूपकों से समृद्ध करके मधुर और कोमल बनाते हैं।

सुमित्रा नंदन पंत के पुरस्कार, Awards of Sumitranandan Pant

1960 में, पंत को कला और बुद्ध चंद के लिए भारत की साहित्य अकादमी द्वारा दिया गया साहित्य अकादमी पुरस्कार मिला।

1969 में, पंत ज्ञानपीठ पुरस्कार प्राप्त करने वाले पहले हिंदी कवि बने, जिन्हें साहित्य के लिए भारत का सर्वोच्च सम्मान माना जाता है। यह उन्हें चिदंबरा नामक उनकी सबसे प्रसिद्ध कविताओं के संग्रह के लिए प्रदान किया गया था। 

भारत सरकार ने उन्हें 1961 में पद्म भूषण से सम्मानित किया। सुमित्रा नंदन पंत ने भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान रुड़की “-जयति विद्या संस्थान” के कुलगीत की रचना की।

सुमित्रा नंदन पंत का देहांत

पंत का निधन 28 दिसंबर 1977 को इलाहाबाद (प्रयागराज), उत्तर प्रदेश, भारत में हुआ था। कौसानी में उनके बचपन के घर को संग्रहालय में तब्दील कर दिया गया है। यह संग्रहालय उनके दैनिक उपयोग के लेख, उनकी कविताओं के ड्राफ्ट, पत्र, उनके पुरस्कार, किताबें, कहानियां आदि प्रदर्शित करता है।

यहां भी पढ़ें:

image source: dilsedeshi

Leave a New Comment