रेडियो पर निबंध – Radio Essay in Hindi

Radio Par Nibandh

प्रस्तावना

मनुष्य की बुद्धि का पार किसने पाया है? प्रारंभ से ही मनुष्य अपने जीवन को सुखी और आनंदमय बनाने के लिए सतत प्रयत्नशील रहा है। आज हमें जो सौ सौ सुख सुविधाएं प्राप्त हो रही हैं वे मनुष्य की बुद्धि का ही परिणाम है। आज मनुष्य इतने सुख पा रहा है कि पृथ्वी पर स्वर्ग की कल्पना साकार हो गई है। विज्ञान के नित्य नवीन अविष्कारों से मानव ने जिस उन्नति को प्राप्त किया है उसे देखकर आश्चर्य होता है। मनोरंजन और ज्ञान के अनेक साधनों का आविष्कार भी विज्ञान की ही देन है। मनोरंजन के अनेक साधनों में रेडियो भी एक प्रमुख साधन है।

रेडियो का आविष्कार

वैज्ञानिक युग के महान् आविष्कार वायरलेस और रेडियो के आविष्कार का श्रेय इंग्लैंड के प्रसिद्ध वैज्ञानिक मारकोनी को जाता है। इसके लिए बड़े बड़े नगरों में ध्वनि को फ़ैलाने वाले केंद्र स्थापित किए जाते हैं। जहां से बिजली के माध्यम से नाना प्रकार के संगीत, वाद्य, समाचार आदि को ध्वनि प्रसारक यंत्र द्वारा आकाश में फैलाया जाता है। आकाश में फैली हुई ध्वनि तरंगों को घरों में लगा रेडियो सेट पकड़ लेता है।

जिसके चलते आज हम इच्छानुसार किसी भी स्थान का कार्यक्रम एक ही रेडियो पर सुन सकते हैं। उसका कारण यह है कि रेडियो में ऐसे बल्ब लगे होते हैं, जो जिस मीटर पर जो कार्यक्रम होता है, उसे उसी संख्या के अनुसार प्रसारित कर सकते हैं। इसी प्रकार कुछ रेडियो जो निश्चित स्थानों के हैं उनसे केवल उन्हीं स्थान के कार्यक्रम ही सुने जा सकते है और कुछ रेडियो विश्व के किसी भी स्थान पर होने वाले कार्यक्रम को सुना सकते हैं।

रेडियो के लाभ

रेडियो के आविष्कार द्वारा आज विश्व के सुदूरवर्ती राष्ट्र एक दूसरे के इतने समीप आ गए हैं कि एक दूसरे के दुख सुख में अपना हर्ष और विषाद प्रकट कर सकते हैं। विश्व बंधुत्व और सामाजिक एकता की माला में राष्ट्र को पिरो देना रेडियो की ही देन है। ऐसे में भारत में गांधी जी की और अमेरिका में राष्ट्रपति कैनेडी की हत्या हुई और उसी क्षण समस्त विश्व की आंखों में आंसू झलक आए।

ईरान में खुमैनी का कट्टर सांप्रदायिक शासन नित्य पचास लोगों को गोली मार रहा है, अफगानिस्तान में रूसी फौज उतर गई है, पोलैंड में आपातकाल की घोषणा हो गई है, रूस में सरवारोत ने अनशन कर दिया है आदि समाचारों को इतनी शीघ्रता से विश्व में प्रचारित करने का एकमात्र साधन रेडियो ही है। साथ ही रेडियो ज्ञानवर्धक, मनोरंजन और नवीनतम समाचारों को जानने का श्रेष्ठ साधन है।

दिन भर परिश्रम करके कोई व्यक्ति शारीरिक और मानसिक थकान अनुभव करता है, सहसा उसके कानों में जब रेडियो से प्रसारित कोई मधुर गीत पड़ता है तो उसकी सारी थकान दूर हो जाती है। उसका जीवन सरस और मधुर हो जाता है। रेडियो से गीत, नाटक, प्रहसन, आलोचना, कहानी, समाचार सभी प्रकार के कार्यक्रम प्रसारित होते हैं।

इतना ही नहीं महिलाओं, बच्चों, युवकों तथा सामाजिक और राष्ट्रीय पर्वों संबंधी कार्यक्रम भी इससे प्रसारित होते हैं। भारत और विभिन्न देशों में होने वाले हॉकी और क्रिकेट के मैचों का आंखों देखा हाल खेल प्रेमी बड़े चाव से रेडियो से ही सुनते हैं। व्यापारिक विज्ञापन का रेडियो भी आज साधन बन चुका है। इससे एक ओर मनोरंजन और ज्ञान वृद्धि होती है तो दूसरी ओर कला का प्रसार और विकास भी होता है।

रेडियो का भविष्य

आज रेडियो ना केवल सरकारी बल्कि प्राइवेट की और भी रुख कर चुका है। ऐसे में बड़े बड़े महानगरों में भी रेडियो अक्सर सुनने को मिल जाता है। जिसके कारण आज कम्युनिटी रेडियो की शुरुआत हुई है, जोकि क्षेत्रीय भाषाओं में खबरों और मनोरंजन का प्रचार प्रसार करते हैं।

आज भी बहुत सारे घरों में दिन की शुरुआत रेडियो सुनकर होती है। ऐसे में हम कह सकते है कि रेडियो का आने वाला भविष्य सुरक्षित है और यह देश की विविधता के साथ साथ एकता की भावना में भी वृद्धि का स्रोत है। साथ ही देश विदेश की घटनाओं का लेखा जोखा सभी देशों को शीघ्रता से प्राप्त हो जाता है।


इसके साथ ही हमारा आर्टिकल – Radio Par Nibandh समाप्त होता है। आशा करते हैं कि यह आपको पसंद आया होगा। ऐसे ही अन्य कई निबंध पढ़ने के लिए हमारे आर्टिकल – निबंध लेखन को चैक करें।

अन्य निबंध – Essay in Hindi

समय का सदपयोगरक्षाबंधन पर निबंध
अनुशासन का महत्व पर निबंधभ्रष्टाचार पर निबंध
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर निबंधसंगति का असर पर निबंध
स्वच्छ भारत अभियान पर निबंधबेरोजगारी पर निबंध
मेरा प्रिय मित्रविज्ञान वरदान या अभिशाप
मेरा प्रिय खेलमेरे जीवन का लक्ष्य पर निबंध
मेरा भारत महानमेरी प्रिय पुस्तक पर निबंध
गाय पर निबंधसच्चे मित्र पर निबंध
दिवाली पर निबंधभारतीय संस्कृति पर निबंध
प्रदूषण पर निबंधआदर्श पड़ोसी पर निबंध
होली पर निबंधशिक्षा में खेलों का महत्व
दशहरा पर निबंधविद्या : एक सर्वोत्तम धन
गणतंत्र दिवसआदर्श विद्यार्थी पर निबंध
स्वतंत्रता दिवसदहेज प्रथा पर निबंध
मंहगाई पर निबंधअच्छे स्वास्थ्य पर निबंध
परोपकार पर निबंधरेडियो पर निबंध
वृक्षारोपण पर निबंधग्राम सुधार पर निबंध
समाचार पत्र पर निबंधपुस्तकालय पर निबंध
बसंत ऋतु पर निबंधप्रजातंत्र पर निबंध
टेलीविजन पर निबंधविद्यालय के वार्षिकोत्सव पर निबंध
महिला दिवस पर निबंध

अंशिका जौहरी

मेरा नाम अंशिका जौहरी है और मैंने पत्रकारिता में स्नातकोत्तर किया है। मुझे सामाजिक चेतना से जुड़े मुद्दों पर बेबाकी से लिखना और बोलना पसंद है।

Leave a Comment

You cannot copy content of this page.