रक्षाबंधन पर निबंध – Rakshabandhan Essay in Hindi

Rakshabandhan Par Nibandh

प्रस्तावना

भारतीय जीवन में पर्वों और त्योहारों का बड़ा महत्व है। हिन्दुओं के अनेक त्योहार हैं। जिनमें चार त्यौहार बहुत ही महत्व के हैं, जिनमें से रक्षाबंधन एक विशेष त्यौहार माना जाता है। रक्षाबंधन का त्यौहार श्रावण मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है। श्रावण मास की पूर्णिमा को मनाए जाने के कारण इसे श्रावणी पर्व के नाम से भी पुकारा जाता है। इस राखी और सलूनों भी कहते हैं।

प्राचीनकाल में वर्षा ऋतु में वर्षा की अधिकता के कारण राजा, व्यापारी, संन्यासी आदि देशाटन नहीं करते थे और प्रायः अपने अपने स्थानों पर रहते थे। चातुर्मास्य में ऋषि मुनि भी नगरों या गांवों में आते थे। लोग उनकी सेवा में उपस्थित होकर उनके उपदेशामृत का पान करते थे। फिर श्रावण की पूर्णिमा को पवित्र नदियों में स्नान कर नया यज्ञोपवीत धारण किया करते थे। यज्ञ आदि का विधान था और वेदारंभ भी होता था। यज्ञ की समाप्ति पर राजा लोग प्रजा सहित आश्रमा अध्यक्ष ब्राह्मणों की पूजा करते थे। आश्रमा अध्यक्ष अपने यजमानों की कलाई में एक पीले रंग का रक्षा सूत्र अभिमंत्रित करके बांधते थे। आगे चलकर यह सूत्र ही रक्षा बंधन के नाम से प्रसिद्ध हुआ।

रक्षा बंधन का मध्यकालीन रूप

काल और क्रमानुसार इस रीत में कुछ परिवर्तन आया। ब्राह्मणों के साथ साथ बहनें भी रक्षा बंधन की अधिकारिणी हो गईं। बहनें प्राय अपने भाइयों के हाथों में ही रक्षा बंधन करती थी लेकिन अन्य व्यक्ति भी राखी बांधे जाने पर अपने को उस स्त्री का भाई समझने में अपना गौरव अनुभव करता था। उस काल में इस प्रथा का बड़ा महत्व रहा। रक्षा बंधन करवाने वाला व्यक्ति अपने प्राणों को संकट में डालकर राखी की पवित्रता की रक्षा करता था। इतिहास इस बात का साक्षी है कि हुमायूं ने चित्तौड़ की महारानी कर्मवती की राखी प्राप्त करके अपने सैनिकों के विरोध करने पर भी गुजरात के मुसलमान शासक के दांत खट्टे कर दिए।

रक्षा बंधन का आधुनिक रूप

आजकल ब्राह्मण अपने यजमानों को राखी बांधने के लिए निकल पड़ते हैं, वे यजमानों के हाथ में राखी बांधकर उनसे दक्षिणा प्राप्त करते हैं। बहनें भी राखी बांधकर अपने भाइयों से दक्षिणा या उपहार प्राप्त करती हैं। घरों में तरह तरह के पकवान बनते हैं। मिष्ठान वितरण होता है और सारा दिन उल्लास से बीतता है।

रक्षा बंधन का महत्व

यह त्यौहार भाई बहन के पवित्र स्नेह का द्योतक है। भारत का हिन्दू समाज ही विश्व में ऐसा समाज है, जिसमें भाई बहन के स्नेह संबंध इतने पवित्र और अटूट हैं। स्त्रियां इसी बहाने अपने मायके चली जाती हैं और अपने बचपन की सहेलियों से मिलने का अवसर प्राप्त कर लेती हैं।

गाना और अमोद प्रमोद इस पर्व को मनाने के लिए अत्यंत सुंदर साधन हैं। बहनें भाइयों के हाथों पर राखी बांधती हैं और उन्हें मिठाई खाने को देती हैं। भाई बहन की मान मर्यादा की रक्षा का उत्तरदायित्व निभाने का वचन लेकर बहन को कुछ उपहार देकर प्रसन्न करता है। इस प्रकार देश के उत्तरी भाग में रक्षा बंधन का पर्व बड़े ही हर्षोल्लास से मनाया जाता है।

रक्षा बंधन पर्व की तैयारी

रक्षा बंधन पर्व की तैयारी में बाज़ार कुछ दिन पहले से ही सज जाया करते हैं। दुकानों पर रंग बिरंगी आदि अनेकों प्रकार राखियां मिलती है। दुकानों पर राखियां खरीदने वालों की भीड़ रहती है। राखी के दिन हलवाई की दुकान भी तरह तरह की मिठाईयों से सजी रहती है और उन पर भी खरीददारों की बड़ी भीड़ रहती है।

उपसंहार

राष्ट्रीय चेतना और अपनी श्रेष्ठ सामजिक परंपराओं को जीवित रखने के लिए इस प्रकार इन त्योहारों की अत्यधिक उपयोगिता है। साथ ही जिस युग में जिसमें स्वार्थ भावना ही बलवती हो, वहां रक्षा बंधन जैसे पर्व मानवता और प्रेम का दिव्य संदेश दे सकते हैं और मानव जीवन को उल्लास से परिपूर्ण कर उसे स्वार्थ त्याग के लिए प्रेरित कर सकते हैं। इस प्रकार प्रत्येक व्यक्ति को अपने त्योहारों को पूर्ण उत्साह से मानना चाहिए।


इसके साथ ही हमारा आर्टिकल – Rakshabandhan Par Nibandh समाप्त होता है। आशा करते हैं कि यह आपको पसंद आया होगा। ऐसे ही अन्य कई निबंध पढ़ने के लिए हमारे आर्टिकल – निबंध लेखन को चैक करें।

अन्य निबंध – Essay in Hindi

समय का सदपयोगरक्षाबंधन पर निबंध
अनुशासन का महत्व पर निबंधभ्रष्टाचार पर निबंध
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर निबंधसंगति का असर पर निबंध
स्वच्छ भारत अभियान पर निबंधबेरोजगारी पर निबंध
मेरा प्रिय मित्रविज्ञान वरदान या अभिशाप
मेरा प्रिय खेलमेरे जीवन का लक्ष्य पर निबंध
मेरा भारत महानमेरी प्रिय पुस्तक पर निबंध
गाय पर निबंधसच्चे मित्र पर निबंध
दिवाली पर निबंधभारतीय संस्कृति पर निबंध
प्रदूषण पर निबंधआदर्श पड़ोसी पर निबंध
होली पर निबंधशिक्षा में खेलों का महत्व
दशहरा पर निबंधविद्या : एक सर्वोत्तम धन
गणतंत्र दिवसआदर्श विद्यार्थी पर निबंध
स्वतंत्रता दिवसदहेज प्रथा पर निबंध
मंहगाई पर निबंधअच्छे स्वास्थ्य पर निबंध
परोपकार पर निबंधरेडियो पर निबंध
वृक्षारोपण पर निबंधग्राम सुधार पर निबंध
समाचार पत्र पर निबंधपुस्तकालय पर निबंध
बसंत ऋतु पर निबंधप्रजातंत्र पर निबंध
टेलीविजन पर निबंधविद्यालय के वार्षिकोत्सव पर निबंध
महिला दिवस पर निबंध

अंशिका जौहरी

मेरा नाम अंशिका जौहरी है और मैंने पत्रकारिता में स्नातकोत्तर किया है। मुझे सामाजिक चेतना से जुड़े मुद्दों पर बेबाकी से लिखना और बोलना पसंद है।

Leave a Comment

You cannot copy content of this page.